अपना शहर चुनें

States

राम मंदिर चंदा रैली पर पथराव के बाद शिवराज के मंत्री का सोनिया गांधी से सवाल

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (फाइल फोटो)
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (फाइल फोटो)

सवाल यह उठ रहा है कि साल के आखिरी में प्रदेश के शांत माहौल को बिगाड़ने की साजिश कौन रच रहा है. क्या हिंसा कोई सोची-समझी साजिश का हिस्सा है.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (MP) के मालवा अंचल के 3 बड़े शहरों उज्जैन, इंदौर और मंदसौर में राम मंदिर (Ram mandir) चंदा रैली पर पथराव के बाद प्रदेश का सियासी पारा चढ़ गया है. अचानक से बदले माहौल को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं.कांग्रेस का कहना है निकाय चुनाव से पहले बीजेपी जानकर माहौल बिगाड़ रही है. लेकिन बीजेपी उल्टा कांग्रेस से सवाल कर रही है.

उज्जैन, इंदौर और मंदसौर में राम मंदिर निर्माण के लिए निकाली जा रही चंदा रैली पर पथराव के बाद हिंसा की खबरें निकल कर आईं. इस पूरी घटना को लेकर प्रदेश में सियासी घमासान भी उठ खड़ा हुआ है. बीजेपी ने मालवा में दो पक्षों के बीच हुई हिंसा पर तत्काल एक्शन लेने के निर्देश दिए हैं.

सोनिया गांधी से सवाल
कैबिनेट मिनिस्टर विश्वास सारंग में सख्त लहजे में कहा प्रदेश कि फिजा खराब करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. मंदिर निर्माण के लिए जन जागरण अभियान चलाया जा रहा है. जन जागरण के प्रकल्प को छेड़ने वालों को प्रदेश में बख्शा नहीं जाएगा. किसी भी तरह की साजिश को नाकाम किया जाएगा. विश्वास सारंग ने कहा उज्जैन की हिंसा को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पार्टी की नीति साफ करना चाहिए और बताना चाहिए कि क्या कांग्रेस पार्टी राम मंदिर निर्माण के खिलाफ है.
माहौल बिगाड़ने की कोशिश


पूर्व मंत्री कांग्रेस नेता डॉक्टर गोविंद सिंह ने मालवा अंचल में हुई हिंसा पर कहा यह सुनियोजित षड्यंत्र का हिस्सा है. नगरीय निकाय चुनाव से पहले माहौल बनाने की कोशिश हो रही है. गुजरात की तरह एमपी में सियासी फायदा लेने के लिए सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ने की कोशिश हो रही है.

कौन रच रहा है साज़िश
उज्जैन, इंदौर और उसके बाद मंदसौर में जुलूस पर हुए पथराव के बाद जिला प्रशासन ने कार्रवाई की है. मंदसौर में दोनों पक्षों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज की गई है. घटना रोकने में विफल पुलिस अफसरों के खिलाफ भी कार्रवाई हुई है. लेकिन सवाल यह उठ रहा है कि साल के आखिरी में प्रदेश के शांत माहौल को बिगाड़ने की साजिश कौन रच रहा है. और क्या हिंसा कोई सोची-समझी साजिश का हिस्सा है. लेकिन यह जरूरी है कि जिस प्रदेश की मिसाल अमन और शांति के लिए पूरे देश में दी जाती है. वहां पर आखिर कौन शांति भंग करना चाहता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज