होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Big News : बीजेपी और संघ के कई नेता पीएफआई के निशाने पर! एमपी में दी जाना थी ट्रेनिंग

Big News : बीजेपी और संघ के कई नेता पीएफआई के निशाने पर! एमपी में दी जाना थी ट्रेनिंग

एमपी में पीएफआई की हजारों की संख्या में स्लीपर सेल सक्रिय हैं. इन लोगों को प्रदेश में हथियारों की ट्रेनिंग की देने की तैयारी थी. पी

एमपी में पीएफआई की हजारों की संख्या में स्लीपर सेल सक्रिय हैं. इन लोगों को प्रदेश में हथियारों की ट्रेनिंग की देने की तैयारी थी. पी

MP Big News : आतंकियों के निशाने पर अब मध्य प्रदेश आ गया है. यहां बैठकर आतंकी संगठन देश में संधिग्ध गतिविधियां चला रहे ...अधिक पढ़ें

भोपाल. पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के गिरफ्तार किए गए नेताओं से पूछताछ में सनसनीखेज खुलासा हुआ है. इनके निशाने पर संघ के कई बड़े नेता थे. इसलिए भोपाल को इन्होंने अपनी गतिविधियों का केंद्र बना लिया था. यहां से पूरे देश में नेटवर्क फैलाना आसान था. श्योपुर को ट्रेनिंग सेंटर के तौर पर तैयार कर रहे थे. मॉर्निंग वॉक ग्रुप बनाकर युवाओं का ब्रेनवाश किया जा रहा था.

आतंकियों के निशाने पर अब मध्य प्रदेश आ गया है. यहां बैठकर आतंकी संगठन देश में संधिग्ध गतिविधियां चला रहे हैं. इन संगठनों ने एमपी को सेंटर पॉइंट बना लिया है. पीएफआई के मामले में भी कई बड़े खुलासे हो रहे हैं. एमपी में भले ही अब तक किसी बड़ी आतंकी घटना को अंजाम नहीं दिया गया हो लेकिन यह आतंकी संगठनों के लिए सुरक्षित ठिकाना बन गया है. इन संगठनों के लिए एमपी सॉफ्ट टारगेट है. यहां सिमी, जेएमबी, सूफ़ा, आईएस समेत कई आतंकी संगठन सक्रिय हैं. साथ ही एमपी में पीएफआई भी देश विरोधी गतिविधियों में शामिल है.

पीएफआई के 6000 सक्रिय सदस्य
मध्य प्रदेश में पीएफआई के 6000 सक्रिय सदस्य हैं. इनमें से इंदौर उज्जैन समेत मालवा क्षेत्र में 2500 सदस्य एक्टिव हैं. पीएफआई का गरीब लोगों और आदिवासी पर फोकस था क्योंकि वो जल्द बहकावे में आ जाते हैं. मॉर्निंग वॉक ग्रुप बनाकर युवाओं का ब्रेनवाश किया जा रहा था. कट्टरपंथी विचारधारा का प्रचार कर युवाओं को देश के खिलाफ बरगलाया जा रहा था. इंदौर उज्जैन से गिरफ्तार चार पीएफआई सदस्यों से एमपी एटीएस पूछताछ कर रही है. आरोपियों से पूछताछ में चौकाने वाले खुलासे हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 19 साल का सरगना बिहार से चला रहा था बड़ा गिरोह, अब तक छाप डाले 52 जाली जन्म प्रमाण पत्र
बीजेपी और संघ भी था निशाने पर…
सूत्रों के हवाले से आई खबर के अनुसार पीएफआई के निशाने पर बीजेपी और आरएसएस के कई नेता थे. एमपी में पीएफआई की हजारों की संख्या में स्लीपर सेल सक्रिय हैं. इन लोगों को प्रदेश में हथियारों की ट्रेनिंग की देने की तैयारी थी. पीएफआई सम्मेलन के नाम पर ट्रेनिंग कराता था. नए सदस्यों को ट्रेनिंग दी जाती थी.

आतंकवादी गतिविधियां बर्दाश्त नहीं
इस मामले में नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा PFI के निशाने पर बीजेपी और RSS के कई दफ्तर थे. देश विरोधी गतिविधियों में PFI लिप्त है. कई ताकतें भारत को इस्लामिक देश बनाना चाहती हैं. बीजेपी की सरकार ने मुसलमानों का सबसे ज्यादा विकास किया. देश में आतंकवादी गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

Tags: Islamic Terrorism, Madhya pradesh latest news, Terror Funding

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें