लाइव टीवी

सोशल मीडिया को दिग्‍विजय ने बताया 'खतरा', बोले- यह देश और हमारे साम्प्रदायिक सद्भाव के लिए ठीक नहीं

News18 Madhya Pradesh
Updated: October 22, 2019, 9:54 PM IST
सोशल मीडिया को दिग्‍विजय ने बताया 'खतरा', बोले- यह देश और हमारे साम्प्रदायिक सद्भाव के लिए ठीक नहीं
देश में सामंजस्य स्थापित करना है तो सोशल मीडिया को रेगुलेट करना पड़ेगा-दिग्विजय सिंह

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister Madhya Pradesh Digvijay Singh) ने सोशल मीडिया (Social Media) को अफवाहों का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म बताते हुए कहा कि यह हमारे देश एवं हमारे साम्प्रदायिक सद्भाव (Communal Harmony) के लिए खतरा है. इसे रेगुलेट करना जरूरी है.

  • Share this:
भोपाल. कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister Madhya Pradesh Digvijay Singh) ने सोशल मीडिया (Social Media) को अफवाहों का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म बताते हुए कहा कि यह हमारे देश (Country) एवं हमारे साम्प्रदायिक सद्भाव (Communal Harmony) के लिए खतरा है. उन्‍होंने ये बात आज यानी मंगलवार को ‘मध्य प्रदेश के बदलाव में डीजिटल मीडिया की भूमिका’ विषय पर आयोजित कार्यशाला को संबोधित करते हुए कही. साथ ही दिग्विजय ने कहा, ‘आज सोशल मीडिया अफवाहों का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म बन चुका है. यह ना सिर्फ इस देश बल्कि हमारे साम्प्रदायिक सद्भाव के लिए खतरा है.'

दिग्‍विजय ने दिया ये सुझाव
अक्‍सर अपने बयानों के कारण चर्चा में रहने वाले कांग्रेस के दिग्‍गज नेता ने आगे कहा कि यदि देश में सामंजस्य स्थापित करना है तो इसे रेगुलेट करना पड़ेगा. दिग्विजय ने कहा कि आज ट्विटर हैंडल पर आइडेंटिटी की आवश्यकता नहीं है. नकली आइडेंटिटी बनाकर एक व्यक्ति 50 ट्विटर हैंडल बना ले, तो उसको कोई रोक नहीं सकता है.

उन्होंने कहा कि हमें साइबर सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए. आज हमें सोशल मीडिया पर झूठी अफवाह फैलाने वालों को पकड़ना होगा. साथ ही उन्होंने कहा कि जब तक सोर्स नहीं पकड़ोगे तब तक सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों को नहीं पकड़ा जा सकता.

ये भी पढ़ें-
CMIE की रिपोर्ट के बाद बिफरी भाजपा, MLA आकाश विजयवर्गीय ने कमलनाथ सरकार को याद दिलाया 'वचनपत्र'

बेरोजगारी को लेकर BJP-कांग्रेस में घमासान, सरकार 'छिंदवाड़ा मॉडल' को प्रदेश में करेगी लागू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 9:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...