लाइव टीवी

MP के सियासी संकट पर बोले स्पीकर एनपी प्रजापति, संविधान की चुप्पी असहज और असहनीय है
Bhopal News in Hindi

News18 Madhya Pradesh
Updated: March 20, 2020, 10:48 AM IST
MP के सियासी संकट पर बोले स्पीकर एनपी प्रजापति, संविधान की चुप्पी असहज और असहनीय है
एमपी विधानसभा के स्पीकर एनपी प्रजापति ने प्रदेश के सियासी घटनाक्रम पर दुख जताया है. (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर (Speaker of Madhya Pradesh) नर्मदा प्रसाद प्रजापति (Narmada Prasad Prajapati) ने एमपी के सियासी उठापटक पर दुख जताया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर (Speaker of Madhya Pradesh) नर्मदा प्रसाद प्रजापति (Narmada Prasad Prajapati) ने एमपी के सियासी उठापटक पर दुख जताया है. उन्होंने News18 इंडिया के रिपोर्टर से बातचीत में शुक्रवार को कहा है कि, ‘मैं दुखी हूं. जो हो रहा है, उससे मैं दुखी हूं. संविधान की चुप्पी असहज और असहनीय है. बागी मंत्रियों और विधायकों के इस्तीफे के बारे में मुझे जो कुछ कहना है, वह मैं पहले ही आपको बता चुका हूं.’

स्पीकर ने आगे कहा कि, ‘जिन 6 MLA का इस्तीफा स्वीकार किया गया, वे सिर्फ विधायक नहीं थे, वे मंत्री थे और उन्होंने विधानसभा को शर्मसार करने का काम किया है. कई लोगों ने मेरे फैसले पर सवाल उठाया, लेकिन मुझे नहीं पता कि मेरे फैसले पर सवाल क्यों उठाया गया. जब लोकतंत्र का इस तरह से बलिदान किया जाता है तो संविधान क्या कर सकता है?’

दोपहर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे कमलनाथ
मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ शुक्रवार दोपहर 12 बजे सीएम हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. माना जा रहा है कि सीएम कमलनाथ इस दौरान मीडियाकर्मियों को किसी बड़े फैसले की जानकारी दे सकते हैं. कमलनाथ सरकार को शुक्रवार को ही विधानसभा में बहुमत साबित करना है. सीएम कमलनाथ ने राजनीतिक संकट के बीच कहा कि वे दोबारा बहुमत हासिल करेंगे. मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि वे शिवराज की किसी भी गुगली से बोल्ड नहीं होने जा रहे हैं.






कांग्रेस और बीजेपी दोनों दलोंं ने विधायकों को जारी किया व्हिप
कांग्रेस ने अपने विधायकों को व्हिप जारी किया है. इन विधायकों को 20 मार्च को अनिवार्य तौर पर सदन में रहने के लिए कहा गया है. साथ ही निर्देश दिया गया है कि विधायक बहुमत के प्रस्ताव पर वोट करें. वहीं बीजेपी के मुख्य सचेतक नरोत्तम मिश्रा ने विधायकों को 20 मार्च को अनिवार्य तौर पर सदन में रहने के लिए कहा है. इस दौरान इन विधायकों को विश्वास मत के विरोध में वोट करने के लिए कहा गया है.

ये भी पढ़ें - 

आजादी के बाद से सबसे अधिक फांसी यूपी में दी गई, जानिए कितनों को मिली यह सजा

निर्भया के दोषी मुकेश को फांसी, करौली के पैतृक घर पर लटका ताला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 10:35 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading