होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /दूसरे राज्यों में फंसे MP के मजदूरों के लिए चलाई जाएंगी स्पेशल ट्रेन, रेल मंत्रालय ने दी सहमति

दूसरे राज्यों में फंसे MP के मजदूरों के लिए चलाई जाएंगी स्पेशल ट्रेन, रेल मंत्रालय ने दी सहमति

लॉकडाउन में नियम बदले गए हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

लॉकडाउन में नियम बदले गए हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

अब तक 40 हजार मजदूरों को बसों के जरिए प्रदेश वापस लाया जा चुका है. लेकिन अभी भी एक बड़ी संख्या मजदूरों की दूसरे राज्यों ...अधिक पढ़ें

भोपाल.मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के लिए अच्छी खबर है. दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों (migrant labours) को घर वापस लाने लाने के लिए स्पेशल ट्रेन चलाई जाएंगी. रेल मंत्रालय ने इस पर अपनी सहमति दे दी है. मजदूरों की वापसी के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से इस संबंध में फोन पर चर्चा की.

जानकारी के मुताबिक प्रदेश के एक लाख मजदूर अभी भी दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं. उनकी वापसी के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने की जरूरत राज्य सरकार ने बताई है. मुख्यमंत्री शिवराज ने मजदूरों की वापसी तय करने के लिए प्रदेश के मंत्री तुलसीराम सिलावट और अपर मुख्य सचिव आईसीपी केसरी को जिम्मेदारी दी है. वो जल्द मजदूरों से जुड़ी डिटेल रेल मंत्रालय को भेजेंगे और यह बताएंगे कि कितने मजदूर किन प्रदेशों में फंसे हैं. वह किस स्टेशन से ट्रेन में सवार होंगे और प्रदेश के किन स्थानों पर उतरेंगे.

घर तक वापसी
सरकार की कोशिश है कि मजदूरों की वापसी उनके गृह जिले तक कराई जाए. इसके लिए नजदीकी स्टेशन तक उन्हें पहुंचाने का इंतज़ाम किया जाएगा. इसके अलावा मजदूरों की रेल यात्रा के दौरान जरूरी स्वास्थ्य परीक्षण और भोजन की व्यवस्था भी की जाएगी. जिस स्टेशन से मजदूर ट्रेन में सवार होंगे वहां उनका मेडिकल चैकअप होगा. और प्रदेश के जिस स्टेशन पर उतरेंगे वहां फिर से चैकअप किया जाएगा. उसके बाद तीसरी बार उनके गृह जिले पहुंचने पर उनकी जांच की जाएगी.

एक लाख से ज्यादा मजदूरों का आना बाक़ी
देशभर के अलग-अलग प्रदेशों में मध्य प्रदेश के करीब एक लाख मज़दूर अभी भी फंसे हुए हैं. जबकि सड़क के रास्ते प्रदेश सरकार हज़ारों मज़दूरों की घर वापसी करा चुकी है.
महाराष्ट्र-50 हजार मजदूर
गुजरात-30 हजार
तमिलनाडु-8000
कर्नाटक- 5000
आंध्र प्रदेश-10 हजार
गोवा - 3,000 मजदूर में फंसे हुए हैं.

नासिक टू भोपाल ट्रेन
इससे पहले एक ट्रेन आज भोपाल पहुंच गयी है. ये नासिक से भोपाल के लिए चलायी गयी इस ट्रेन के ज़रिए महाराष्ट्र में फंसे मध्य प्रदेश के करीब 400 मजदूर घर लौटे हैं. यहां से इन मजदूरों को उनके गृह जिले के लिए रवाना किया जाएगा.

मेडिकल चैकअप
प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है नासिक से आए मजदूरों का पहला मेडिकल टेस्ट नासिक में और दूसरा भोपाल स्टेशन पर करने की व्यवस्था की गयी.उसके बाद मजदूरों को उनके गृह जिले रवाना किया जाएगा. वहां फिर से तीसरा टेस्ट होगा. पूरे एहतियात के साथ मजदूरों के घर वापसी की कोशिश सरकार कर रही है.

अब तक 40 हजार की वापसी
अब तक 40 हजार मजदूरों को बसों के जरिए प्रदेश वापस लाया जा चुका है. लेकिन अभी भी एक बड़ी संख्या मजदूरों की दूसरे राज्यों में फंसी है. और उनकी वापसी के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है.

ये भी पढ़ें-

MP में फिर प्रशासनिक फेरबदल : भोपाल कमिश्नर और छिंदवाड़ा कलेक्टर हटाए गए

किसान अब घर बैठे बेच सकेंगे फसल, सरकार ने किया मंडी अधिनियम में संशोधन

Tags: Lockdown. Covid 19, Madhya pradesh news, Migrant laborers, Migrant Workers, Shivraj government

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें