• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • BJP की बैठक में फिर नहीं पहुंचे क्रॉस वोटिंग करने वाले विधायक, मची खलबली

BJP की बैठक में फिर नहीं पहुंचे क्रॉस वोटिंग करने वाले विधायक, मची खलबली

पूर्व में भी मत विभाजन के दौरान बीजेपी को परेशान कर चुके हैं दोनों विधायक

पूर्व में भी मत विभाजन के दौरान बीजेपी को परेशान कर चुके हैं दोनों विधायक

कांग्रेस के हार्स ट्रेडिंग (Horse Treading) के आरोपों के बीच बीजेपी की संभागवार बैठक में शामिल नहीं हुए मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी और ब्यौहारी विधायक शरद कोल. इन दोनों विधायकों की अनुपस्थिति से अटकलों का बाजार गर्म हो गया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश बीजेपी पर कांग्रेस विधायकों (Congress MLA) की हार्स ट्रेडिंग के आरोपों के बीच खुद बीजेपी के खेमे में खलबली मच गई है. इस खलबली की वजह वही दो विधायक हैं, जिन्होंने मॉनसून सत्र के दौरान कांग्रेस का पाला अपना लिया था. मंगलवार को बीजेपी में हुई रीवा (Rewa) और शहडोल (Shahdol) संभाग के विधायकों की बैठक के बीच मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी और ब्यौहारी विधायक शरद कोल नदारद रहे. इन दोनों विधायकों की गैरमौजूदगी से अब सियासी गलियारों में अटकलों का दौर गर्म हो गया है. सवाल खड़े किए जा रहे हैं कि क्या ये दोनों विधायक ऐन वक्त पर बीजेपी के लिए फिर कोई मुश्किल खड़ी कर सकते हैं. खास बात ये भी है कि शरद कोल ऐसे वक्त में बीजेपी की बैठक से नदारद हुए हैं जब उन्होंने एक दिन पहले ही अपनी पार्टी के खिलाफ बागी तेवर दिखाते हुए कमलनाथ सरकार की तारीफ की थी. हालांकि बीजेपी नेताओं ने सफाई देते हुए कहा है कि दोनों विधायकों ने बैठक में शामिल न होने के लिए पहले से अनुमति ली थी.

शरद कोल के बागी तेवर
2 मार्च को जिस वक्त पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर कांग्रेस विधायकों के खरीद-फरोख्त के आरोप लगाए उसके थोड़ी देर बाद ही बीजेपी विधायक शरद कोल ने अपने बागी तेवर दिखा दिए थे. शरद कोल ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए एक बयान में पार्टी के अंदर एससी-एसटी और ओबीसी की अनदेखी के आरोप लगाते हुए पार्टी नेतृत्व पर सवाल खड़े किए थे. खास बात ये भी है कि शरद कोल ने अपने बयान में सीएम कमलनाथ की तारीफ भी की थी.

शरद-नारायण और क्रॉस वोटिंग
शरद कोल और नारायण त्रिपाठी इससे पहले भी अपनी ही पार्टी बीजेपी के खिलाफ बगावत कर चुके हैं. विधानसभा के मॉनसून सत्र में एक विधेयक पर हुए मत विभाजन के दौरान शरद कोल और मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने क्रॉस वोटिंग करते हुए कांग्रेस का पाला पकड़ लिया था. उस दौरान दोनों विधायकों ने सीएम कमलनाथ के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी ही पार्टी के नेताओं को जमकर खरी खोटी सुनाई थी, हालांकि बाद में दोनों विधायकों ने कहा कि वो बीजेपी में ही हैं और बीजेपी में रहेंगे लेकिन शरद कोल और नारायण त्रिपाठी का बैठक में न पहुंचना कुछ और ही कहानी बयां कर रहा है.



ये भी पढ़ें -
CM कमलनाथ ने अपने MLA से कहा-BJP फोकट का पैसा दे रही है, ले लेना
कांग्रेस MLA का आरोप- BJP वाले दे रहे हैं 25 करोड़ का ऑफर, RSS नेताओं ने भी किया सम्पर्क

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज