लाइव टीवी

Bhopal Hackathon 2.0: आपकी दुनिया को और स्मार्ट बना देंगे यहां के स्टार्टअप

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 30, 2019, 6:56 PM IST
Bhopal Hackathon 2.0: आपकी दुनिया को और स्मार्ट बना देंगे यहां के स्टार्टअप
भोपाल फेस्ट में आए नए स्टार्टअप बेहतर भविष्य की उम्मीद जगाते हैं

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत भोपाल में आयोजित हैकथॉन टू प्वाइंट जी़रो (Hackathon 2.0) में एक से बढ़कर एक स्टार्टअप (Startup) हिस्सा ले रहे हैं. इनकी खूबियां देखकर आप हैरान रह जाएंगे.

  • Share this:
भोपाल. स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट (SmartCity Project) के तहत भोपाल में चल रहा 'हैकाथॉन फेस्ट' (Hackathon Fest) किसी अजूबे से कम नहीं है. फेस्ट में प्रतियोगिता के लिए आए नए स्टार्टअप बेहतर भविष्य की उम्मीद तो जगाते ही हैं, साथ ही इस बात को लेकर भरोसा भी दिलाते हैं कि कहीं न कहीं कोई न कोई हमारे बारे में सोच रहा है. यहां मौजूद हर चेहरा भविष्य की एक नई सोच के साथ यहां पहुंचा है. कुछ न कुछ नया करने और खुद को दुनिया में अलग साबित करने के लिए हो रही इनकी कोशिशें वाकई काबिले तारीफ हैं.

'रक्षक'
आठ बाई आठ इंच की एक छोटी सी डिवाइस और आपका पूरा घर बिना किसी कैमरे और निगरानी के सुरक्षित. ये स्टार्टअप है भोपाल के रहने वाले आशीष मिश्रा का. आशीष ने रक्षक (Rakshak) नामक एक ऐसा अनोखा ह्यूमन डिटेक्शन सिस्टम बनाया है जो 40 मीटर के दायरे में बायो सिक्योरिटी देता है. ये सिस्टम मोबाइल, अलार्म और फोन कॉल से कनेक्ट हो सकता है. इस सिस्टम का फायदा ये है कि ये आपके परिवार के सदस्यों को पहचान कर किसी अनजान के घर में एंट्री करने पर ऑटोमेटिक अलर्ट करता है.

News - ये डिवाइस आपके परिवार के सदस्यों को पहचान कर किसी अनजान के घर में आने पर अलर्ट करता है
ये डिवाइस आपके परिवार के सदस्यों को पहचान कर किसी अनजान के घर में आने पर अलर्ट करता है


प्लास्टिक डोनेशन सेंटर
प्लास्टिक आज के दौर में पर्यावरण के लिए सबसे बड़ी समस्या है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए न्यू जेनरेशन कुछ न कुछ नया कर रही है. भोपाल के रहने वाले जीशान खान ने एक ऐसा ही स्टार्टअप शुरू किया है. ये स्टार्टअप प्लास्टिक डोनेशन प्रोग्राम (Plastic Donation Startup) पर आधारित है, जिसे किसी भी जगह पर इन्स्टॉल किया जा सकता है और इसका कनेक्शन किसी भी सामाजिक संस्था या निकाय से हो सकता है, जो बाद में प्लास्टिक को रि-साइकल कर सके. फिलहाल पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इसे भोपाल के मोती मस्जिद इलाके में लगाया गया है.

बाइकर्स प्राइडसेहत और पर्यावरण अगर दोनों का ख्याल एक साथ रखना हो तो ज़रूरी है कि एक्सरसाइज के साथ सड़कों पर चलने वाली गाड़ियों की संख्या भी कम हो. इसी मकसद से तैयार किया गया है बाइकर्स प्राइड स्टार्टअप (Bikers Pride Startup), जो अपने आप में अनोखा है. ये दरअसल एक ऐसी स्मार्ट साइकिल है जो पैडल के साथ साथ बैटरी से भी चलती है. 5 पैसा प्रति किलोमीटर खर्च के हिसाब वाली ये साइकिल ढाई घंटे चार्ज करने पर 35 किलोमीटर तक चल सकती है. बाइक्स स्टार्ट अप शुरू करने वाले निखिल जाधव अब तक देश में 300 से ज्यादा बाइक्स बेच चुके हैं.

News - 5 पैसा प्रति KM खर्च के हिसाब वाली ये बाइक ढाई घंटे चार्ज करने पर 35 KM तक चल सकती है
5 पैसा प्रति KM खर्च के हिसाब वाली ये साइकिल ढाई घंटे चार्ज करने पर 35 KM तक चल सकती है


इन्वेंटो हैक
सिर्फ पर्यावरण, सिक्योरिटी और टेक्नॉलॉजी ही नहीं किसानों के लिए भी स्टार्टअप की कमी नहीं है.  इनवेंटो हैक स्टार्टअप (Invento Hack Startup) के फाउंडर असीम जौहरी किसानों के लिए स्टार्टअप तैयार कर रहे हैं. इनका स्टार्टअप मामूली खर्चे पर और महज कुछ मिनटों में ज़मीन की गुणवत्ता और उसके संभावित नतीजों के बारे में बता सकता है. ये ही नहीं स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत आयोजित हुए हैकथॉन टू प्वाइंट जीरो में देश और प्रदेश के कई और स्टार्टअप हिस्सा ले रहे हैं, जिनका मकसद आपकी दुनिया को और स्मार्ट बनाना है.

ये भी पढ़ें -
नौकरी के लिए सरकार की चौखट तक पहुंची असिस्टेंट प्रोफेसरों की पदयात्रा, कब होगी सुनवाई?
कांग्रेस MLA की धमकी के जवाब में बोलीं प्रज्ञा ठाकुर- आ रही हूं, जला देना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 6:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर