• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • व्यापम महाघोटाले के कई मुन्ना भाई MBBS अब विदेश में कर रहे हैं प्रैक्टिस

व्यापम महाघोटाले के कई मुन्ना भाई MBBS अब विदेश में कर रहे हैं प्रैक्टिस

व्यापम घोटाला:दो डॉक्टरों के ख़िलाफ FIR दर्ज

व्यापम घोटाला:दो डॉक्टरों के ख़िलाफ FIR दर्ज

अब पेंडिंग शिकायतों की जांच एसटीएफ (STF) कर रही है.उसी में पता चला है कि व्यापम घोटाले (vyapam scam) के ज़रिए एमबीबीएस (MBBS) कर चुके कुछ संदेही डॉक्टर अब विदेश (foreign) जा चुके हैं और वहां अपनी प्रैक्टिस जमाए बैठे हैं

  • Share this:
भोपाल.मध्यप्रदेश (Madhya pradesh) के व्यापम महाघोटाले (vyapam) के कुछ मुन्ना भाई विदेश तक पहुंच चुके हैं. इस बहुचर्चित महाघोटाले की जांच में ये चौंकाने वाला खुलासा हुआ है.इस मामले की सीबीआई (CBI) तो जांच कर ही रही है. उसके अलावा अब पेंडिंग शिकायतों की जांच एसटीएफ कर रही है.उसी में पता चला है कि व्यापम घोटाले के ज़रिए एमबीबीएस (MBBS) कर चुके कुछ संदेही डॉक्टर अब विदेश जा चुके हैं और वहां अपनी प्रैक्टिस जमाए बैठे हैं.

जानकारी के अनुसार एसटीएफ को व्यापम से संबंधित 197 शिकायतें मिली थीं. इसमें से करीब 80 शिकायतें उन मुन्ना भाइयों की थीं, जिन्होंने पीएमटी में फर्ज़ीवाड़ा कर मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लिया है. सूत्रों ने बताया कि एसटीएफ को जो शिकायतें मिली हैं, उनमें कुछ ऐसे डॉक्टर्स के भी नाम शामिल हैं, जो इस फर्ज़ीवाड़ा के ज़रिए एमबीबीएस पास कर अब विदेशों में जा बसें हैं और धमाके से वहां  प्रैक्टिस कर रहे हैं. अभी तक ऐसे तीन डॉक्टर्स की शिकायत मिल चुकी हैं.  इसमें लेन-देन तक के आरोप शिकायत में लगाए गए हैं.

एसटीएफ खंगाल रही है कुंडली
विदेश में प्रैक्टिस कर रहे इन मुन्ना भाई डॉक्टरों की कुंडली खंगाली जा रही है.उनके खिलाफ सबूत जुटाए जा रहे हैं.एसटीएफ अधिकारियों का कहना है जिन डॉक्टरों के खिलाफ शिकायत मिली है, उनकी जांच की जा रही है.सबूतों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी.हालांकि, अभी तक एसटीएफ ने तमाम शिकायतों की जांच में एक भी FIR दर्ज नहीं की है. लेकिन सूत्रों का दावा है कि जल्द ही सबूत जुटाने के बाद एफआईआर दर्ज होने का सिलसिला शुरू होगा.

197 पेंडिंग शिकायतों की जांच में तेजी
CBI ने 197 शिकायतें एसटीएफ के पास वापस भेज दी थीं.तब से ये शिकायत पेंडिंग पड़ी हुई थीं.कमलनाथ सरकार के निर्देश पर इन्हीं पेंडिंग शिकायतों की जांच एसटीएफ कर रही थी.ये लंबित शिकायतें साल 2014 से 2015 के बीच की बताई जा रही हैं.व्यापम घोटाले की इस जांच को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने हैं.कांग्रेस प्रवक्ता मानक अग्रवाल का कहना है  शिवराज सरकार में जिन राजनेताओं और अफसरों को बचाया गया, अब उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी.वहीं बीजेपी विधायक विश्वास सारंग इसे बदले की कार्रवाई बता रहे हैं.

STF की जांच पार्ट टू
व्यापम घोटाले की पहले STF जांच कर रहा था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जांच CBI को सौंपी गयी थी.अब फिर से एसटीएफ जांच में जुट गई है.हालांकि एसटीएफ, सीबीआई  जांच और उसके द्वारा दर्ज की गई एफआईआर और कार्रवाई में किसी भी तरह का दखल नहीं देगी.एसटीएफ सिर्फ पेंडिंग शिकायतों की जांच कर रही है.इसलिए अब इस घोटाले की जांच को STF पार्ट टू जांच कहा जा रहा है.

ये भी पढ़ें-जे पी नड्डा की रैली पर नगर निगम ने लगाया 13.46 लाख रुपए का जुर्माना

जानिए, प्रज्ञा ठाकुर को विमान में क्‍यों नहीं मिली उनकी मनचाही सीट

 


पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज