लाइव टीवी

हथियार माफियाओं को लेकर सख्‍त हुई कमलनाथ सरकार, STF ने कांग्रेस MLA समेत 25 पर दर्ज की FIR
Bhopal News in Hindi

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 13, 2020, 10:30 PM IST
हथियार माफियाओं को लेकर सख्‍त हुई कमलनाथ सरकार, STF ने कांग्रेस MLA समेत 25 पर दर्ज की FIR
एसटीएफ ने शस्त्र लाइसेंस के मामले में 25 के खिलाफ दर्ज की एफआईआर.(File Photo. )

बीजेपी सरकार में पनपे हथियार माफिया पर अब कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) में बड़ी कार्रवाई की जा रही है. एसटीएफ ने एक साथ हथियार माफियाओं पर 25 एफआईआर दर्ज की हैं.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में बीजेपी सरकार (BJP Government) में पनपे हथियार माफियाओं पर अब कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) में बड़ी कार्रवाई की जा रही है. यकीनन यह बात एसटीएफ की कार्रवाई बता रही है, जिसके तहत पहली बार एक साथ हथियार माफियाओं पर 25 एफआईआर दर्ज की गई हैं. जबकि एक शस्त्र लाइसेंस चित्रकूट से कांग्रेस विधायक नीलांशु चतुर्वेदी (Neelanshu Chaturvedi) का भी है, जिसमें फर्जीवाड़ा कर विधि विरूद्ध अतिरिक्त सीमाक्षेत्र में वृद्धि की गई है.

कांग्रेस सरकार में कसा शिकंजा
मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार आने के बाद हर तरह के माफियों पर शिकंजा कसा जा रहा है. इसी कड़ी में अब एसटीएफ ने हथियार माफियाओं के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. यह पहला मौका है, जब प्रदेश में इतनी बड़ी संख्या में एक साथ एफआईआर दर्ज की गई. यह एक जिले का मामला है. सरकार की अनुमति मिलने के बाद एसटीएफ बाकी के जिलों में भी हथियार माफियों पर शिकंजा कसेगी.

लाइसेंस फर्जीवाड़े में कांग्रेस विधायक का नाम



जिन 25 शस्त्र लाइसेंस को लेकर एफआईआर दर्ज की गई, उनमें एक चित्रकूट से कांग्रेस विधायक नीलांशु चतुर्वेदी का भी है. आरोप है कि लाइसेंस में फर्जीवाड़ा कर विधि विरूद्ध अतिरिक्त सीमाक्षेत्र में वृद्धि की गई. एडीजी अशोक अवस्थी का कहना है कि अभी शस्त्र शाखा के जिम्मेदारों को एफआईआर में आरोपी बनाया गया है. जबकि लाइसेंसधारियों की भूमिका की भी जांच जा रही है.

mp, stf, एसटीएफ, कमलनाथ
एसटीएफ अन्‍य जिलों में कार्रवाई के लिए प्‍लान तैयार कर रही है.


बीजेपी सरकार के दौरान हुआ फर्जीवाड़ा
एसटीएफ एडीजी अशोक अवस्थी ने बताया कि सतना जिले में शस्त्र लाइसेंस की कालाबाजारी और उनके फर्जीवाड़े का मामला विधानसभा में उठा था. इस मामले में सरकार ने जांच के निर्देश दिए थे. एसटीएफ की स्पेशल टीम ने सतना जिले में कैंप लगाकर लाइसेंस से जुड़े 2004 से 2014 के रिकॉर्ड की जांच की, तो चौंकाने वाले खुलासे हुए. करीब सौ लाइसेंस में फर्जीवाड़ की बात पता चली है. एसटीएफ ने सबूतों के आधार पर पहली बार एक साथ 25 अलग-अलग एफआईआर दर्ज की हैं. एसटीएफ ने जिले की शस्त्र शाखा प्रभारी अभयराज सिंह, युगुल किशोर गर्ग समेत अन्य व्यक्तियों को आरोपी बनाया है. अवस्थी ने बताया कि दूसरे जिलों में शस्त्र लाइसेंस की जांच के लिए सरकार से अनुमति ली जाएगी.

लाइसेंस में ऐसे किया फर्जीवाड़ा
>>शस्त्र लाइसेंस में बिना अनुमति के बिना विधि विरूद्ध सीमा क्षेत्र में वृद्धि की गई.
>>अतिरिक्त शस्त्र क्रय कराने की स्वीकृति सक्षम अधिकारी से प्रदान की गई.
>>बिना शासन के आदेश के कारतूसों की संख्या में वृद्धि की गई.
>>दीगर प्रदेश के व्यक्तियों को लाइसेंस जारी किए गए.
>>दीगर प्रदेश जम्मू एवं कश्मीर के शस्त्र लाइसेंस का पंजीयन, नवीनीकरण जिला सतना में किया गया.
>>बिना वैद्य अनुमति शस्त्र लाइसेंस की द्धितीय प्रति तैयार कर फर्जीवाड़ा किया गया.

किसी को नहीं छोड़ा जाएगा
कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल का कहना है कि बीजेपी सरकार में हर तरह का माफिया पनपा था. हथियार माफिया का कारोबार भी फला फूला था. अब कांग्रेस सरकार तेजी से कार्रवाई कर रही है और किसी को बख्शा नहीं जाएगा. जांच में कोई भी व्यक्ति हो. यदि उसकी भूमिका फर्जीवाड़े में आती है, तो उसके खिलाफ भी वैधानिक कार्रवाई होगी. जबकि बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि सरकार बदले की भावना से काम कर रही है. शिवराज सरकार में भी माफियों पर कार्रवाई हुई थी. कांग्रेस झूठ बोलकर जनता को गुमराह कर रही है. शस्त्र लाइसेंस में कांग्रेस विधायक का नाम है. सरकार ने उनको बचाया है. कोई कार्रवाई न हो, इसलिए छोटे अफसरों को आरोपी बनाया गया है.

 

ये भी पढ़ें-

फर्जी पासपोर्ट बनवाकर रहने वाले 3 बांग्‍लादेशी गिरफ्तार, सेक्‍स रैकेट चलाने के साथ करते थे ये काम

 

सांसद-IPS की पीसीएस बेटी को 'बेरोजगार' से हुआ प्‍यार, एक शर्त ने बदल दी जिंदगी

 

मंत्री सुरेन्द्र सिंह से बोले कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष-इससे अच्छी तो bjp सरकार थी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 7:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर