भोपाल नाव हादसा : मौत की बोट पर सवार कमल राणा से सुनिए हादसे की आपबीती

कमल राणा का कहना है कि नाविकों ने भरोसा दिलाया था तभी इतनी संख्या में युवक नाम पर बैठे. खटलापुरा के इस घाट पर कुछ पुलिस वाले तैनात थे लेकिन वो बाहर की व्यवस्था देख रहे थे. घाट पर आने-जाने वालों को रोकने-टोकने वाला कोई नहीं था

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 13, 2019, 6:06 PM IST
भोपाल नाव हादसा : मौत की बोट पर सवार कमल राणा से सुनिए हादसे की आपबीती
हादसे की आपबीती सुनाते हुए कमल राणा
Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 13, 2019, 6:06 PM IST
भोपाल. भोपाल (bhopal) के छोटे तालाब के खटलापुर (boat tragedy)घाट पर हुए इस हादसे में कुछ खुशनसीब भी रहे. जिन्होंने जैसे-तैसे अपनी जान बचायी. ये तो बच गए लेकिन इन्हें लगातार ये ग़म सता रहा है कि वो अपने साथियों को नहीं बचा पाए. ऐसे ही कुछ बचे हुए खुश किस्मत में हैं कमल राणा जो उसी मौत की नाव में सवार थे.
छोटे तालाब के खटलापुर में जिस वक्त ये नाव और 11 ज़िंदगियां डूबीं उस दौरान नाव में कमल राणा भी सवार थे. हादसे में वो जो बच गए लेकिन उनकी छोटा भाई और उसका दोस्त दोनों डूब गए. हादसे के वो पल याद करके कमल राणा बार-बार सिहर रहे हैं.
कमल बताते हैं कि नाव पलटने के कारण वो भी पानी में गिर गए थे. लेकिन जैसे-तैसे उन्होंने पास मौजूद दूसरी नाव को पकड़ लिया. हड़बड़ाहट में उनकी यही सूझबूझ काम कर गयी और वो बच गए. वो दुर्घटना का ब्यौरा देते हुए बार-बार याद करते हैं कि भाई और अपने बाक़ी साथियों को नहीं बचा पाए. आंखों के सामने ही छोटा भाई हरि, उसका दोस्त और बाकी लोग छटपटाकर डूब गए.

कमल राणा का खुलासा

कमल राणा के मुताबिक नाव डूबने के आधे घंटे बाद मदद के लिए प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची. तब तक घाट पर मौजूद लोग ही मदद की कोशिश करते रहे. मौके पर प्रशासन का कोई भी अधिकारी मौजूद नहीं था.गोताखोर और SDRF की टीम भी वहां नहीं थी. जब ये हादसा हुआ उस वक़्त तालाब में तीन और नाव थीं. उन पर सवार नाविक फौरन मदद के लिए दौड़े. 7 लोगों को तो बचा लिया गया लेकिन बाक़ी के लिए तब तक देर हो गयी थी.


नाविकों ने दिया था भरोसा
Loading...

कमल राणा का कहना है कि नाविकों ने भरोसा दिलाया था तभी इतनी संख्या में युवक नाम पर बैठे. खटलापुरा के इस घाट पर कुछ पुलिस वाले तैनात थे लेकिन वो बाहर की व्यवस्था देख रहे थे. घाट पर आने-जाने वालों को रोकने-टोकने वाला कोई नहीं था.

ये भी पढ़ें-VIDEO: गणपति विसर्जन के दौरान नौका पलटी, डूबने से 11 की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 4:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...