होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

आवारा कुत्तों की जनसंख्या नियंत्रण करने भोपाल में खुलेंगे दो केंद्र, रोज 150 की नसबंदी

आवारा कुत्तों की जनसंख्या नियंत्रण करने भोपाल में खुलेंगे दो केंद्र, रोज 150 की नसबंदी

Stray Dogs. 2 महीने में दो नए एनिमल बर्थ कंट्रोल सेंटर बनकर तैयार हो जाएंगे. इनमें रोजाना 120 से 150 कुत्तों की नसबंदी हो सकेगी.

Stray Dogs. 2 महीने में दो नए एनिमल बर्थ कंट्रोल सेंटर बनकर तैयार हो जाएंगे. इनमें रोजाना 120 से 150 कुत्तों की नसबंदी हो सकेगी.

बच्चों पर कुत्तों के हमले लगातार बढ़ने पर अब नगर निगम ने एक्शन प्लान तैयार किया है. इसके मुताबिक 2 महीने में दो नए एनिमल बर्थ कंट्रोल सेंटर बनकर तैयार हो जाएंगे. इनमें रोजाना 120 से 150 कुत्तों की नसबंदी हो सकेगी. अभी सिर्फ एक एबीसी सेंटर है जिसमें प्रतिदिन करीब 40 जानवरों की नसबंदी हो पाती है. निगम का टारगेट है कि अब नसबंदी की संख्या बढ़ाई जाएगी. डॉग बाइट की लगातार बढ़ रही घटनाओं पर भाजपा विधायक यशपाल सिसोदिया ने शासकीय अधिकारियों और नसबंदी का काम करने वाली एजेंसियों, एनजीओ पर सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कहा कराड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद इस तरह के मामले बढ़ रहे हैं तो यह चिंता की बात है. जवाबदारी तय होनी चाहिए, कुत्तों के हमलों के कारण बड़े पैमाने पर बच्चे घायल हुए हैं. कुछ बच्चों की मौत हुई है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. भोपाल की सड़कों पर आवारा कुत्तों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है. शहर के कई इलाकों में आवारा कुत्तों के झुंड की दहशत है जो कभी बच्चों पर हमला करते हैं तो कभी गाड़ियों पर लपकते हैं. बुधवार शाम 7 साल की बच्ची  पर कुत्ते ने हमला किया था जिसके बाद गम्भीर हालत में उसे कमला नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया. इन घटनाओं को रोकने अब कुत्तों की जनसंख्या कंट्रोल करने की कवायद निगम प्रशासन ने  शुरू कर दी है. जल्द ही रोजाना 150 कुत्तों की नसबंदी की जाएगी.

बुधवार शाम भोपाल के बांसखेड़ी में बच्ची पर हमले में पीड़िता की आंख पर गहरी चोट आई है. निगम प्रशासन दावा करता है कि कुत्तों की धरपकड़ के लिए तमाम व्यवस्थाएं की गई हैं लेकिन जमीनी स्तर पर अब तक इसका कोई ठोस असर दिखाई नहीं दिया है. बहरहाल अब आने वाले 2 माह में 2 नए एनिमल बर्थ कंट्रोल सेंटर बनकर तैयार होने हैं. उसके बाद रोजाना 150 आवारा कुत्तों की नसबंदी की जाएगी. अभी रोज सिर्फ 40 कुत्तों की नसबंदी की जा रही है.

इस साल भोपाल में डॉग बाइट की बड़ी घटनाएं 

-2 जनवरी को 4 साल की बच्ची पर कुत्तों का हमला

-23 जनवरी को 7 वर्षीय बच्ची को कुत्तों ने निशाना बनाया

-27 फरवरी को अशोका गार्डन इलाके में 6 साल की बच्ची पर हमला

-15 जून को भोपाल की लालघाटी में आवारा कुत्तों ने एक 7 वर्षीय बच्चे की जान ले ली.

-वाहन चालकों पर भी हमला करते हैं आवारा कुत्ते
सरकार पर सवाल
डॉग बाइट की लगातार बढ़ रही घटनाओं पर भाजपा विधायक यशपाल सिसोदिया ने शासकीय अधिकारियों और नसबंदी का काम करने वाली एजेंसियों, एनजीओ पर सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कहा कराड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद इस तरह के मामले बढ़ रहे हैं तो यह चिंता की बात है. जवाबदारी तय होनी चाहिए, कुत्तों के हमलों के कारण बड़े पैमाने पर बच्चे घायल हुए हैं. कुछ बच्चों की मौत हुई है.

2 नये सेंटर बनेंगे
बच्चों पर कुत्तों के हमले लगातार बढ़ने पर अब नगर निगम ने एक्शन प्लान तैयार किया है. इसके मुताबिक 2 महीने में दो नए एनिमल बर्थ कंट्रोल सेंटर बनकर तैयार हो जाएंगे. इनमें रोजाना 120 से 150 कुत्तों की नसबंदी हो सकेगी. अभी सिर्फ एक एबीसी सेंटर है जिसमें प्रतिदिन करीब 40 जानवरों की नसबंदी हो पाती है. निगम का टारगेट है कि अब नसबंदी की संख्या बढ़ाई जाएगी.

बच्ची की हालत स्थिर
नगर निगम कमिश्नर वीएस चौधरी ने कहा जो केस सामने आए हैं उनकी जांच कर रहे हैं. जरूरी एक्शन लिया जाएगा. बुधवार को कुत्ते के हमले की शिकार हुई बच्ची की स्वास्थ्य की जानकारी देते हुए कमिश्नर ने बताया कि बच्ची स्टेबल है और परमानेंट डैमेज नहीं है.

बस दो महीने का इंतजार
भोपाल समेत प्रदेश के अन्य जिलों में भी बच्चों पर कुत्ते के हमले के मामले सामने आए हैं जो चिंतनीय विषय हैं. ऐसे में अब शासन प्रशासन को कुत्तों की बढ़ती आबादी पर अंकुश लगाना एक बड़ी चुनौती बन गया है. बहरहाल भोपाल में तैयार हो रहे दो नए एबीसी सेंटर आने वाले 2 माह में अस्तित्व में आ जाएंगे. इसके बाद देखना होगा कि ऐसी घटनाओं पर कितना अंकुश लग पाता है.

Tags: Attack of stray dogs, Bhopal latest news, Stray animals

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर