Article 370: कश्मीरी छात्र ने कहा- अगर शांति कायम हो तो Most Welcome

कश्मीरी छात्र ने भोपाल में कहा कि Article 370 हटाने से शांति कायम होती है तब हम इसे Most Welcome करते हैं.

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 5, 2019, 8:20 PM IST
Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 5, 2019, 8:20 PM IST
जम्मू कश्मीर से Article 370 हटाने के फैसले पर आखिर आम कश्मीरी क्या सोचते हैं? इस बारे में भोपाल में रहकर पढ़ाई कर रहे कश्मीरी छात्र से न्यूज़ 18 ने बात की. छात्र ने अपनी पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर कहा कि सरकार के फैसले के बाद कश्मीर के हालात को लेकर उसे चिंता है. लेकिन उम्मीद इस बात की है कि कश्मीर अमन की ओर आगे बढ़ेगा.

छात्र ने कहा कि सरकार के इस फैसले के बाद आगे क्या परिणाम आते हैं, वो अभी देखा जाना है. फिर उसने कहा कि वह बहुत परेशान है, क्योंकि कश्मीर में रह रहे घरवालों से उसकी बात नहीं हो पा रही है. उसने कहा कि अपने छोटे से जीवन में ही बहुत खून-खराबा देखा है, लेकिन वह अब दोनों ही तरफ से और खून नहीं देखना चाहता है.

कश्मीरी छात्र ने कहा कि कोई भी आम कश्मीरी ये नहीं बोलेगा कि उसे पाकिस्तान चाहिए. उसने कहा कि हम पीस (शांति) चाहते हैं. हमारी लाइफ में भी पीस हो. छात्र ने कहा कि अगर Article 370 हटाने से शांति कायम होती है तो हम इसका Most Welcome (भरपूर स्वागत) करते हैं.

मोदी सरकार ने उठाया बड़ा कदम

article 370 - amit shah
गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर सरकार का संकल्प पत्र पेश किया.


बता दें, जम्मू-कश्मीर को लेकर मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर सरकार का संकल्प पत्र पेश किया. अमित शाह ने कहा कि कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 को हटा दिया गया है. अब इसके सभी खंड लागू नहीं होंगे.

अमित शाह ने सदन में कश्मीर के पुनर्गठन प्रस्ताव भी पेश किया. उनके ऐलान के बाद विपक्ष ने सदन में जोरदार हंगामा शुरू कर दिया. विपक्ष का आरोप है कि सरकार ने उन्हें इस तरह के किसी बिल की पहले जानकारी नहीं दी थी.
Loading...

ये भी पढ़ें - 'पाकिस्‍तान का गुणगान करने वालों का चेहरा बेनकाब'

कमलनाथ को देश का प्रधानमंत्री होना चाहिए : जीतू पटवारी
First published: August 5, 2019, 4:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...