लाइव टीवी

अयोध्या पर सबसे बड़े फैसले के दिन भोपाल के इन 'शांतिदूतों' ने पेश की अनोखी मिसाल

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 9, 2019, 8:04 PM IST
अयोध्या पर सबसे बड़े फैसले के दिन भोपाल के इन 'शांतिदूतों' ने पेश की अनोखी मिसाल
भोपाल में अयांश और अभिनव ने सुरक्षाकर्मियों को चाय-नाश्ता करा पेश की अनोखी मिसाल.

जब आप घरों में टीवी पर अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले (Ayodhya Verdict) की खबर देख रहे थे, उस समय भोपाल (Bhopal) के दो बच्चे शहर की सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मियों (Security Personnel) को चाय-नाश्ता कराने में व्यस्त थे. बच्चों की संवेदनशीलता देख हर कोई उनकी तारीफ कर रहा था.

  • Share this:
भोपाल. राम मंदिर निर्माण पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद हर तरफ सांप्रदायिक सौहार्द (Communal Harmony) बनाए रखने की बात हो रही है. इस क्रम में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) के दो नन्हें 'शांतिदूतों' का जिक्र भी जरूरी है, जो सामाजिक सौहार्द की मिसाल बन गए हैं. ये शांतिदूत दरअसल दो बच्चे थे, जो शहर की सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मियों (Security Personnel) को अपने घर से लाकर चाय-नाश्ता करवा रहे थे. इन दोनों बच्चों के नाम अयांश और अभिनव हैं. इनकी उम्र महज 10 साल और 14 साल है. अयांश और अभिनव की मानें तो जब हमारी सुरक्षा के लिए पुलिस के जवान लगातार घंटों खड़े रह सकते हैं तो क्या हम उन्हें चाय-नाश्ता भी नहीं करवा सकते. खास बात ये है कि अयांश और अभिनव को पुलिस जवानों की मदद करने की प्रेरणा उनके पिता से ही मिली जो खुद उनके साथ पुलिस जवानों को चाय नाश्ता कराने पहुंचे .



भोपाल में चाक-चौबंद रही सुरक्षा
राम मंदिर पर सुप्रीम फैसले को देखते हुए राजधानी भोपाल में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद थी. शहर में धारा 144 लगने के साथ ही चप्पे-चप्पे पर पुलिस जवानों को तैनात किया गया था. किसी भी तरीके के जश्न और आतिशबाजी पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया गया है. इसी के चलते पुलिस जवानों को देर रात से ही ड्यूटी पर लगा दिया गया था. एक तरफ जहां फैसले के बाद शहर का माहौल बनाए रखने की चुनौती थी, वहीं दूसरी तरफ ये दोनों बच्चे हाथ में बिस्किट और चाय लेकर सामाजिक सौहार्द और एकता की मिसाल बनते नज़र आए.

अपने पिता की प्रेरणा से अयांश और अभिनव ने शहर की सुरक्षा में लगे जवानों को चाय-नाश्ता कराने का फैसला किया.


पुलिस वालों ने की तारीफ
लगातार ड्यूटी के बाद थक चुके पुलिस जवानों ने भी चाय-नाश्ता और पानी पाकर राहत महसूस की. पुलिस अधिकारियों से लेकर जवानों तक ने बच्चों के इस कदम की सराहना की. पुलिस अधिकारियों की मानें तो ये बच्चे एकता की मिसाल हैं. ड्यूटी के बीच जब सुरक्षाबल के जवानों को दम लेने तक की फुर्सत नहीं मिलती, ऐसे समय में भोपाल के इन दो 'शांतिदूतों' की अनोखी पहल इन जवानों को दो पल का सुकून दे गई.
Loading...

ये भी पढ़ें -

CM कमलनाथ ने रद्द किए अपने कार्यक्रम, प्रदेश के हालात पर नज़र

Ayodhya Verdict : सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर जानिए आपके नेताओं ने क्या कहा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 7:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...