Home /News /madhya-pradesh /

मध्य प्रदेश में गायों के कल्याण के लिए वसूले जा सकते हैं टैक्स, CM शिवराज ने दिए संकेत

मध्य प्रदेश में गायों के कल्याण के लिए वसूले जा सकते हैं टैक्स, CM शिवराज ने दिए संकेत

मुख्यमंत्री ने गत बुधवार को मध्य प्रदेश में गौ वंश की सुरक्षा एवं संवर्धन के लिये एक अलग कैबिनेट स्थापित करने की घोषणा की थी. (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री ने गत बुधवार को मध्य प्रदेश में गौ वंश की सुरक्षा एवं संवर्धन के लिये एक अलग कैबिनेट स्थापित करने की घोषणा की थी. (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार गौ वंश के कल्याण के लिये धन जुटाने के लिये कुछ कर लगाने की योजना बना रही है.

    भोपाल. मध्य प्रदेश में काऊ कैबिनेट (COW Cabinet) गठित करने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने गोपाष्टमी के दिन यानि रविवार को एक जनसभा को संबोधित किया. इस दौरान सीएम ने कहा कि हम पहले अपने भोजन का एक हिस्सा गायों और कुत्तों के लिए रखते थे. अब इस परंपरा का पालन केवल असाधारण मामलों में किया जाता है. इसलिए मैं गौशालाओं में गायों के कल्याण के लिए जनता से कर के तौर पर छोटी सी राशि वसूलने पर विचार कर रहा हूं, ताकि गायों का अच्छी तरह से भरण-पोषण किया जा सके.

    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार गौवंश के कल्याण के लिये धन जुटाने के लिये कुछ कर लगाने की योजना बना रही है. आगर-मालवा जिले में सुसनेर के समीप सालरिया में एक जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम ने इस संभावित कदम के पीछे भारतीय संस्कृति में गौ माता को पहली रोटी (गौ ग्रास) खिलाने का तर्क भी दिया. सीएम शिवराज चौहान ने सभा में उपस्थित लोगों से सवाल किया कि गौमाता के कल्याण के लिये और गौशालाओं के ढंग से संचालन के लिये कुछ मामूली कर लगाने के बारे में सोच रहा हूं...क्या यह ठीक है? लोगों ने इसका सकारात्मक उत्तर दिया.



    एमपी में बनेंगी 2,000 गौशालाएं
    इस मौके पर सीएम शिवराज ने कहा, 'हमारे घरों में पहली रोटी गाय के लिये बनती थी और अंतिम रोटी कुत्ते को खिलाते थे. यह हमारी भारतीय संस्कृति थी. अब अधिकांश घरों में गौ ग्रास नहीं निकलता है और हम अलग-अलग गौ ग्रास नहीं ले सकते. इसलिये हम गायों के कल्याण के लिये कुछ छोटा-मोटा कर लगाने की सोच रहे हैं.' उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश में गौशाला संचालन के लिये एक कानून बनाया जाएगा और जिला कलेक्टरों को प्रत्येक गौशाला के संचालन के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने का निर्देश दिया गया है. मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में 2,000 गौशालाएं बनाई जाएंगी तथा इन्हें सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से संचालित किया जायेगा.



    मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने कहा कि गाय के गोबर के कई उपयोग होते हैं और यह पर्यावरण की रक्षा करने में सहायक होता है. लकड़ी के स्थान पर गौकाष्ट (गोबर से बने बेलनाकार टुकड़े) का उपयोग करने से पर्यावरण की रक्षा होगी और अच्छी वर्षा भी होगी. उन्होंने कहा, 'हमें पर्यावरण को बचाना होगा. यूरिया और डीएपी खाद का उपयोग धरती के लिये धीमे जहर जैसा है. जबकि गोबर की खाद धरती के लिये अमृत की तरह काम करता है. यदि रासायनिक उर्वरकों का उपयोग लंबे समय तक किया जाता है तो भूमि में गेंहूं की फसल का उत्पादन नहीं होगा.' मुख्यमंत्री ने कहा कि गौमूत्र से बनी दवा कई बीमारियों को ठीक कर सकती है. ऐसी कई दवाईयां गौ अभयारण्यों में बनाई जा रही हैं.

    Tags: Bhopal news, CM Shivraj Singh Chauhan, Cow, Madhya pradesh news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर