MP: उपचुनाव में ग्वालियर-चंबल की 16 सीटों पर कांग्रेस की यह टीम करेगी सिंधिया की घेराबंदी
Bhopal News in Hindi

MP: उपचुनाव में ग्वालियर-चंबल की 16 सीटों पर कांग्रेस की यह टीम करेगी सिंधिया की घेराबंदी
तीन में भाजपा को दो तो कांग्रेस को मिली एक सीट. (फाइल फोटो)

पिछले विधानसभा चुनाव में सिंधिया (Scindia) के दम पर कांग्रेस ने ग्‍वालियर-चंबल इलाके में जीत का परचम लहराया था. इस बाद यह दिग्‍गज नेता बीजेपी में हैं.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 24 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में ग्वालियर-चंबल (Gwalior-Chambal) की 16 विधानसभा सीटें बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गयी हैं. सीधे-सीधे कहें तो इन पर कांग्रेस और बीजेपी में गए सिंधिया की साख दांव पर लगी है. पिछले विधानसभा चुनाव में सिंधिया के दम पर कांग्रेस ने ये इलाका जीता था, लेकिन इस बार सिंधिया विरोधी पार्टी में जा खड़े हुए हैं. इसलिए कांग्रेस के लिए ये मुश्किल की घड़ी है.

ग्वालियर चंबल की ये 16 सीटें तय करेंगी कि बीजेपी और कांग्रेस का सियासी भविष्य क्या होगा. ग्वालियर-चंबल इलाके में जीत दर्ज करने वाले को सत्ता की चाभी मिलना तय माना जाता है. बीजेपी यदि 2018 के मुकाबले इस बार यहां सीटें जीतती है तो वह सत्ता में बनी रहेगी. अगर कांग्रेस पार्टी सिंधिया के बिना जीत बरकरार रख पाती है तो निश्चित तौर पर बीजेपी की की स्थिति डांवाडोल हो सकती है. यही कारण है कि बीजेपी और कांग्रेस का सबसे ज्यादा फोकस ग्वालियर चंबल इलाके की विधानसभा सीटों पर है.

सिंधिया होंगे चेहरा
बीजेपी ग्वालियर-चंबल इलाके में भले ही पार्टी के बड़े नेता शिवराज सिंह चौहान और नरेंद्र सिंह तोमर के साथ चुनाव मैदान में उतरे. लेकिन, पार्टी को जीत दिलाने का दारोमदार ज्योतिरादित्य सिंधिया पर ही होगा. ग्वालियर और चंबल इलाका ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ कहलाता है. ऐसे में बीजेपी सिंधिया का चेहरा आगे रखकर ही ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.



कांग्रेस करेगी सिंधिया की घेराबंदी


वक़्त की नज़ाकत को कांग्रेस भी भांप चुकी है. पार्टी को पता है कि ग्वालियर-चंबल में कांग्रेस का चेहरा ज्योतिरादित्य सिंधिया थे और अब उनके बीजेपी में जाने पर कांग्रेस के लिए जीत दर्ज करा पाना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है. इसलिए पार्टी ने ग्वालियर चंबल इलाके की 16 सीटों के लिए कांग्रेस की टीम उतारने का प्लान तैयार किया है. उसका प्लान सिंधिया की घेराबंदी करने का है. इसके लिए पार्टी ने कभी सिंधिया के करीबी रहे प्रदेश के कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत, ग्वालियर में सिंधिया के घुर विरोधी डॉक्टर गोविंद सिंह, केपी सिंह और पूर्व मंत्री लाखन यादव समेत अशोक सिंह को रणनीति बनाने की जिम्मेदारी सौंपी है. पार्टी के निशाने पर पाला बदलने वाले दलबदलु विधायकों से ज्यादा ज्योतिरादित्य सिंधिया होंगे.

कांग्रेस-बीजेपी का दावा
कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत का कहना है ग्वालियर चंबल इलाके में सिंधिया के मुकाबले कांग्रेस पार्टी चुनाव लड़ेगी. बीजेपी के नरोत्तम मिश्रा का मानना है कांग्रेस के पास ग्वालियर चंबल इलाके में उम्मीदवारों का टोटा है. ऐसे में टीम कैसे तैयार होगी इसका अंदाज लगाया जा सकता है.

सिंधिया के बिना
पहली बार कांग्रेस पार्टी अपने बूते पर ग्वालियर चंबल इलाके में चुनाव मैदान में उतरेगी और वो भी सिंधिया के खिलाफ लड़ेगी. लेकिन देखना यह होगा कि कमलनाथ की रणनीति पर टीम कांग्रेस सिंधिया के लिए कितनी बड़ी चुनौती बन पाती है. सिंधिया को उनके इलाके में मात देकर सत्ता में वापसी कर पाती है.

ये भी पढ़ें-

MP में स्कूलों में लागू होगा Odd-Even फॉर्मूला! शिक्षा विभाग का प्लान तैयार

इस गांव में एक साथ उठी 4 भाई-बहन की अर्थी, नर्मदा में डूबने से हुई मौत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading