लाइव टीवी

पाकिस्तान में पकड़े गए बारेलाल के परिवार को बेटे के लौटने का इंतज़ार

News18 Madhya Pradesh
Updated: November 21, 2019, 5:11 PM IST
पाकिस्तान में पकड़े गए बारेलाल के परिवार को बेटे के लौटने का इंतज़ार
बारेलाल के परिवार को बेटे के लौटने का इंतज़ार

एमपी पुलिस मुख्यालय (PHQ) ने दमोह पुलिस (DAMOH POLICE) की रिपोर्ट और युवक से जुड़ी तमाम जानकारी गृह मंत्रालय के साथ केंद्रीय एजेंसियों को भेज दी है. पुलिस मुख्यालय लगातार केंद्रीय एजेंसियों के संपर्क में है.

  • Share this:
दमोह.पाकिस्तान (Pakistan) में पिछले दिनों पकड़े गए दो भारतीय युवकों में से एक -बारेलाल (barelal), दमोह (damoh) का रहने वाला है. बारेलाल का परिवार दमोह ज़िले के एक छोटे से गांव शीशपुर में रहता है. पूरा परिवार बेटे के लौटने के इंतज़ार में है. न्यूज 18 की टीम बारेलाल के परिजनों से मिलने पहुंची.

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान की पुलिस ने बहावलपुर से दो युवकों को गिरफ्तार किया था. यह युवक मध्यप्रदेश और हैदराबाद के रहने वाले हैं. रिपोर्ट्स में दावा किया गया कि दोनों युवक गैर कानूनी तरीके से इलाके में दाखिल हुए थे. उनके पास पासपोर्ट नहीं है. जब भारतीय पुलिस और इंटेलिजेंस एजेंसी ने पड़ताल शुरू की तो उनमें से एक- बारेलाल नाम का युवक दमोह के शीशपुर गांव का निकला.
यहां रहता है बारेलाल का परिवार
शीशपुर गांव, नोहटा थाना क्षेत्र में आता है. न्यूज 18 की टीम बारेलाल के गांव पहुंची. उसका पूरा परिवार इसी गांव में रह रहा है. बारेलाल आदिवासी की उम्र अभी 31 साल है. परिवार ने बताया कि बारेलाल ने नोहटा हाईस्कूल से दसवीं तक पढ़ाई की. लेकिन दसवीं कक्षा में फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ दी. उसके बाद उसका मानसिक संतुलन धीरे-धीरे बिगड़ता चला गया. परिवार ने बारेलाल का इलाज जबलपुर के नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 2014 से 2016 तक लगातार कराया. लेकिन हालत में सुधार नहीं आया.

यहां-वहां फिरता था
परिवार का कहना है कि बारेलाल दिनभर आवारा की तरह यहां-वहां घूमता रहता था. हर बार परिवार उसे ढूंढ़कर घर ले आता था. लेकिन 2017 में बारेलाल ऐसा गुम हुआ कि फिर लौटकर नहीं आया. परिवार ने नोहटा थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी और बेटे के लौटने का इंतज़ार करता रहा.


Loading...

बेटे को लाने की अपील
पाकिस्तान के ज़रिए जब बारेलाल के मिलने की ख़बर भारत और दमोह तक पहुंची, तब घर वालों को अपने बेटे का पता चला. पुलिस ने जब बारेलाल की फोटो उसके परिवार को दिखायी तो परिवार ने फौरन उसे पहचान लिया. उन्होंने बारेलाल को फौरन पाकिस्तान से वापिस लाने की मांग की.
ये है परिवार
बारेलाल के पिता सुब्बी आदिवासी किसान हैं. उनके पास करीब 5 एकड़ जमीन है. मां लक्ष्मीबाई गृहिणी हैं जो घर के साथ-साथ खेत पर भी काम करती हैं. परिवार में बड़ा भाई पदम, भाभी-संगीता, बहन और भतीजी है. पूरा परिवार खेती कर जीवन-यापन करता है.
केंद्रीय एजेंसियों को जानकारी
एमपी पुलिस मुख्यालय ने दमोह पुलिस की रिपोर्ट और युवक से जुड़ी तमाम जानकारी गृह मंत्रालय के साथ केंद्रीय एजेंसियों को भेज दी है. बारेलाल मानसिक रूप से विक्षिप्त है. वो कैसे पाकिस्तान पहुंचा, इसके बारे में पुलिस और परिवार को जानकारी नहीं है. पुलिस मुख्यालय लगातार केंद्रीय एजेंसियों के संपर्क में है. (दमोह से संवाददाता धर्मेश पांडेय की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें-प्रज्ञा पर कांग्रेस का तंज-जिन पर संगीन आरोप, वो क्या देश की रक्षा करेंगी!

भोपाल स्टेशन पर 'एक उपन्यास' देख नाराज़ हुए रेलवे के बड़े अफसर, दी ये हिदायत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 2:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...