खुशखबरी: हज यात्रा के लिए आज से ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू, अंतिम तारीख 10 दिसंबर

हज 2021 के लिए कई नए नियम भी बनाए गए हैं. यह कदम कोरोना के चलते उठाया गया है.  (Photo: AP)
हज 2021 के लिए कई नए नियम भी बनाए गए हैं. यह कदम कोरोना के चलते उठाया गया है. (Photo: AP)

कोरोना के चलते हज यात्रा (Haj Yatra) निरस्त हो गई थी. लेकिन 2021 की हज यात्रा के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया आज से शुरू की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2020, 1:18 PM IST
  • Share this:
भोपाल. हज यात्रा (Haj) करने की चाहत रखने वालों के लिए खुशखबरी है. हज पर जाने वाले यात्री आज यानि शनिवार से ऑनलाइन अवेदन (Online Application) कर सकते हैं. आवेदन करने की अंतिम तिथि 10 दिसंबर तक है. हज कमेटी की वेबसाइट hajcommittee.gov.in पर फॉर्म का प्रारूप अपलोड कर दिया गया है. गौरतलब है कि कोरोना के चलते हज यात्रा निरस्त हो गई थी. लेकिन 2021 की हज यात्रा के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया आज से शुरू की गई है.

जानकारी के मुताबिक, हज 2021 के लिए कई नए नियम भी बनाए गए हैं. यह कदम कोरोना के चलते उठाया गया है. उम्र सीमा तय कर दी गई है. सऊदी अरब (Saudi Arabia) में रुकने के दिनों की संख्या भी घटा दी गई है. हज पर जाने वालों की लाटरी (कुर्रा) जनवरी में खोली जाएगी. गौरतलब रहे कि इस साल भारत से हज यात्रा पर कोई नहीं जा पाया था.

हज पर जाने वालों के लिए यह बदले गए हैं यह नियम
सेंट्रल हज कमेटी, भारत सरकार के पूर्व सदस्य डॉ. इफ्तिखार अहमद जावेद ने जानकारी देते हुए बताया, हज 2021 के लिए ऑनलाइन आवेदन भरने की प्रक्रिया 7 नवंबर से शुरू हो जाएगी और 10 दिसंबर तक चलेगी. लेकिन बदले हुए नियमों के चलते सिर्फ 18 से 65 साल के लोगों को ही हज पर जाने की इजाज़त होगी.
30 से 35 दिन के आसपास ही रुकने की इजाज़त मिलेगी


हज 2021 में इस बार सऊदी अरब में 30 से 35 दिन के आसपास ही रुकने की इजाज़त मिलेगी. पूरे देश से इस बार 21 इम्बारकेशन केंद्रों को की बजाए 10 से ही हज यात्रियों की फ्लाइट रवाना होंगी. वाराणसी इम्बारकेशन केंद्र को भी खत्म कर दिया गया है. अब वाराणसी वालों को लखनऊ से फ्लाइट मिलेगी.

81 हज़ार नहीं अब 1.5 लाख जमा करनी होगी पहली किश्त
डॉ. जावेद ने क़हा क़ि अगर आवेदन फॉर्म कोटे से अधिक जमा हुए तो जनवरी 2021 में लॉटरी निकालकर हज ज़ायरीनों का चयन किया जाएगा. चयनित हज ज़ायरीनों को पहली किश्त अब 81,000 के बजाय एक लाख पचास हजा़र जमा करनी होगी. डॉ. जावेद ने यह भी बताया क़ि एक कवर में एक साथ तीन ज़ायरीन को ही फॉर्म भरने की अनुमति होगी. जो महिलाएं बिना मेहरम के हज को जाती हैं उनकी संख्या भी घटा कर तीन कर दी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज