लाइव टीवी

अस्पताल में गंदगी देख मंत्री बोलीं-मेरे आने पर ये हाल है तो बाकी दिन क्या होता होगा...

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 14, 2020, 11:19 PM IST
अस्पताल में गंदगी देख मंत्री बोलीं-मेरे आने पर ये हाल है तो बाकी दिन क्या होता होगा...
अस्पताल में गंदगी देख मंत्री नाराज़ हुईं

चिकित्सा शिक्षा मंत्री(Minister of Medical Education) विजयलक्ष्मी साधौ(Vijayalakshmi Sadho) ने कहा ब ग्रामीण क्षेत्रो में डॉक्टरों का काम करना अनिवार्य होगा.एक साल तक ग्रामीण क्षेत्रों में डॉक्टरों को अपनी सेवाएं देनी होंगी

  • Share this:
सागर. बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में बैठक लेने पहुंची चिकित्सा शिक्षा मंत्री (Minister of Medical Education) विजयलक्ष्मी साधौ (Vijayalakshmi Sadho) गंदगी देख भड़क उठीं. मेडिकल क़ॉलेज (Medical college) में गंदगी थी. दीवारों पर जाले लटक रहे थे और दुर्गंध फैली हुई थी. मंत्री आज मेरे आने पर अस्पताल (hospital) का ये हाल है तो बाकी दिन क्या होता होगा.

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ समीक्षा बैठक के लिए सागर पहुंचीं थीं. दौरा पहले से तय था.बावजूद इसके बुंदेलखंड मेडिकल अस्पताल में व्यवस्था चाक-चौबंद नहीं थी. इस बीच मंत्री अस्पताल के निरीक्षण के लिए निकल पड़ीं. उन्हें कहीं साफ-सफाई नज़र नहीं आयी.हर तरफ गंदगी थी. कैंपस में बदूब आ रही थी. दीवारों और सीलिंग पर जाले लगे हुए थे. बुंदेलखंड इलाके के इस बड़े मेडिकल कॉलेज अस्पताल का ये हाल देख मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ गुस्से से भर गयीं.
विजयलक्ष्मी साधौ ने अस्पताल प्रबंधन को जमकर फटकार लगाई. वो बोलीं मेरे दौरे के दिन अस्पताल का ये हाल है तो बाकी दिन अस्पताल का क्या हाल रहता होगा.अस्पताल परिसर के बाहर निकलीं तो देखा सामने बन रही बिल्डिंग का कचरे का ढेर लगा था.

आधे घंटे में आय़ुष्मान कार्ड बनाने का निर्देश

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज की समीक्षा बैठक में शामिल हुईं. उन्होंने कॉलेज में साधारण सभा की बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा की.बैठक के बाद निरीक्षण के दौरान मरीजों से चर्चा की.मरीज़ों ने चिकित्सा शिक्षा मंत्री से अस्पताल में सुविधाएं ना होने की शिकायत की. एक मरीज ने मंत्री से आयुष्मान योजना का कार्ड बनवाने की गुजारिश की. इस पर मंत्री ने अस्पताल प्रशासन से कहा कि आधे घंटे के भीतर कार्ड बना दिया जाए.

ग्रामीण इलाकों में जाने की सख्ती
मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने एमबीबीएस के 2018-2019 के छात्रों को लैपटॉप बांटे और 4 करोड़ 11लाख की राशि ऑडिटोरियम को दी.रेडियोलॉजी विभाग की नई मशीनें एसएनसीयू और डेंटल विभाग की नई मशीनों का भी शुभारंभ किया. लैपटॉप वितरण के दौरान उन्होंने कहा अब ग्रामीण क्षेत्रो में डॉक्टरों का काम करना अनिवार्य होगा.एक साल तक ग्रामीण क्षेत्रों में डॉक्टरों को अपनी सेवाएं देनी होंगी.ग्रामीण क्षेत्रों में काम नहीं करने वाले डॉक्टरों का लाइसेंस निरस्त किया जाएगा. मप्र सरकार नीति भी बना रही है.एक साल तक ग्रामीण क्षेत्रों में काम करने वाले डॉक्टरों को बांड भरने के बाद ही लाइसेंस दिया जाएगा.डिग्री लेने के बाद डॉक्टर्स ग्रामीण इलाकों में जाने में रुचि नहीं दिखाते हैं.ये भी पढ़ें-BJP के धाकड़ MLA को ठगने की फिराक में था राजस्थान का ये बदमाश, लेकिन...

शहडोल अस्पताल में 12 घंटे में 6 नवजात की मौत, प्रशासन पर उठे सवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 11:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर