थमा नहीं रहा कांग्रेस में चिट्ठी का तूफान, अब उमंग सिंघार ने किया TWEET
Indore News in Hindi

थमा नहीं रहा कांग्रेस में चिट्ठी का तूफान, अब उमंग सिंघार ने किया TWEET
थमा नहीं है कांग्रेस में चिट्ठी का तूफान, अब उमंग सिंघार ने किया TWEET

मंत्री उमंग सिंघार (Minister Umang Singhar) ने दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को सुबह 10 से 12 बजे का समय दिया था लेकिन दिग्विजय नहीं पहुंचे, उन्होंने पीसी लेकर अनुशासन (Discipline) की नसीहत दी, तो उमंग ने भी नसीहत पर ही पलटवार किया

  • Share this:
भोपाल, वन मंत्री उमंग सिंघार ने पूर्व मंत्री दिग्विजय सिंह के पत्र को लेकर उन्हें सुबह 10 बजे से लेकर 12 बजे तक मिलने का समय दिया था. हालांकि दिग्विजय उमंग से मुलाकात करने नहीं पहुंचे. उन्होंने बंगले पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए पार्टी के नेताओं को अनुशासन में रहने की नसीहत दी. दिग्विजय सिंह के बयान के बाद उमंग सिंघार ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है.

विवादों वाली चिट्ठी
दिग्विजय सिंह ने सभी मंत्रियों को चिट्ठी लिखकर उनके पत्र पर की गई कार्रवाई को लेकर जवाब मांगा था. इस चिट्ठी में मंत्रियों से मिलने का समय भी दिग्विजय सिंह ने मांगा था. इस चिट्ठी के बाद ही उमंग सिंघार ने दिग्विजय सिंह को लेकर कहा था कि वो पर्दे के पीछे से सरकार को चला रहे हैं. साथ ही कई और आरोप भी लगाए थे. इस बयान के बाद उन्होंने लगातार दिग्विजय सिंह को लेकर बयानबाजी की और सोनिया गांधी को चिट्ठी भी लिखी.

News - दिग्विजय सिंह की इस चिट्ठी के बाद मंत्री सिंघार ने उन पर आरोप लगाए थे.
दिग्विजय सिंह की इस चिट्ठी के बाद मंत्री सिंघार ने उन पर आरोप लगाए थे.

अनुशासन में रहने की नसीहत


दिग्विजय उमंग सिंघार से मुलाकात करने नहीं पहुंचे. उन्होंने अपने बंगले पर प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर उमंग सिंघार का नाम लिए बिना उनपर निशाना साधा. उन्होंने नेताओं को अनुशासन में रहने की नसीहत दी. दिग्विजय सिंह के बयान के ठीक बाद उमंग सिंघार भी मीडिया के सामने आ गए.

दिग्विजय का स्वागत है
न्यूज 18 से बातचीत करते हुए उमंग सिंघार ने कहा कि मैं अपनी बात हाईकमान को बता चुका हूं. दिग्विजय सिंह को समय दिया था, दिग्विजय चाय पीने आना चाहते हैं, तो उनका स्वागत है. दिग्विजय सिंह के आरोपों के सवाल पर नो कमेंट कहकर सिंघार बचते हुए नजर आए. साथ ही उमंग सिंघार ने दिग्विजय सिंह की अनुशासन वाली बात का जवाब ट्वीट से दिया. उन्होंने लिखा कि सभी नेताओं को अनुशासन में रहना चाहिए.



माणक की नसीहत
इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने कहा कि मंत्री उमंग सिंघार को समय देने से पहले सोचना चाहिए था. दिग्विजय सिंह पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं. उन्हें तय करना है कि उन्हें जाना है या फिर नहीं. सिंघार चाहते हैं कि दिग्विजय सिंह उनके घर पर आएं. दिग्विजय सिंह अपने को बड़ा नहीं मानते, वह छोटे से छोटे कार्यकर्ता के घर पहुंच जाते हैं.

ये भी पढ़ें -
OPINION: मोदी 2.0 के कैसे रहे पहले 100 दिन, ये रहे बड़े फैसले, यहां चूकी सरकार
लता मंगेशकर को 'डॉटर ऑफ द नेशन' की उपाधि से नवाज़ सकती है सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज