लाइव टीवी

भोपाल के इस सरकारी स्कूल में ऐसे स्मार्ट और टेक्नोलॉजी फ्रेंडली बन रहीं माताएं

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 5, 2019, 6:15 PM IST
भोपाल के इस सरकारी स्कूल में ऐसे स्मार्ट और टेक्नोलॉजी फ्रेंडली बन रहीं माताएं
शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि प्रदेश के स्कूलों में होगी 21वीं सदी की शिक्षा टेक्नोलॉजी

भोपाल के जहांगीराबाद कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय (Jahangirabad govt School) के एक कार्यक्रम में वहां पढ़ने वाली बच्चियों के साथ उनकी मांओं (Mothers) को भी जोड़ा गया ताकि वो भी स्मार्ट और टेक्नोलॉजी फ्रेंडली बनें. प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि 21वीं सदी की शिक्षा टेक्नोलॉजी जल्दी ही प्रदेश के स्कूलों में भी होगी

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल के जहांगीराबाद (Jahangirabad) इलाके में एक ऐसा स्कूल (School) है, जहां बड़ी संख्या में बच्चियां और उनकी माताएं अपने भविष्य को बनाने और संवारने के लिए पहुंच रही हैं. जहांगीराबाद शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय (Jahangirabad govt School) का नन्हीं कली कार्यक्रम मांओं को बेटियों के साथ जोड़कर उनका जीवन संवारने की कोशिश कर रहा है. इस कार्यक्रम में माएं ना सिर्फ अपनी बेटियों से जुड़ेंगी भी बल्कि अपनी जिंदगी में कुछ करने की कोशिश भी करेंगी.

माताओं को स्मार्ट बनाने की पहल
जहांगीराबाद शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में नन्हीं कली कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें माएं अपनी बेटियों के पहुंचीं. उत्साह के साथ माओं ने अपनी बेटियों के साथ डांस भी किया. इस कार्यक्रम का मकसद यहां मांओं को आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स की ट्रेनिंग देना भी है ताकि इसके जरिेए पिछड़े इलाके की महिलाएं खुद का काम शुरू कर सकें. अब स्कूल में मांओं को कंप्यूटर का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है. बेटियों के साथ मांओं को भी स्मार्ट बनाने की कवायद शुरू हो चुकी है. इस कड़ी में बच्चियों के बाद अब मांओं को कंप्यूटर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है, ताकि वो भी टेक्नोलॉजी फ्रेंडली बन सकें और घरों से बाहर निकलकर बेहतर कामकाज कर सकें.

News - बच्चियों के साथ माताओं को भी स्मार्ट बना रहा ये सरकारी स्कूल
बच्चियों के साथ माताओं को भी स्मार्ट बना रहा ये सरकारी स्कूल


प्रदेश के स्कूलों में होगी 21वीं सदी की शिक्षा टेक्नोलॉजी
स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी नन्हीं कली कार्यक्रम में पहुंचे. उन्होंने माताओं से कहा कि इस पहल से आप सभी ना सिर्फ बच्चियों से जुड़ेंगी बल्कि स्कूल में बच्चियों की ग्रोथ भी देख सकेंगी. इस तरह का कार्यक्रम ना सिर्फ सरकारी स्कूल और अभिभावकों के बीच की दूरियों को कम कर रहा है, बल्कि मांओं को भी सक्षम बना रहा है. विदेशों में 21वीं सदी में जो शिक्षा के लिए टेक्नोलॉजी है, वो सारी टेक्नोलॉजी मध्यप्रदेश के स्कूलों में जुटाई जाएगी. कंप्यूटर और आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स के जरिए माओं को क्रिएटिव बनाने की पहल बहुत अच्छी है. इस तरह की सारी पहल जो कि बेहद कारगर है वो सारे सरकारी स्कूलों में शुरू करने की प्लानिंग करेंगे, ताकि बच्चियों के साथ मांएं भी क्रिएटिव और मजबूत बन सकें.

ये भी पढ़ें -
Loading...

सागर: सफाई के लिए मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने उठाई झाड़ू, शहर को स्वच्छ रखने की अपील

MP: इन मुद्दों को लेकर सीएम हाउस का घेराव करेगी बीजेपी, राकेश सिंह ने किया ऐलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 5, 2019, 6:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...