लाइव टीवी

आरोपी डॉक्टर ने परिवार को फंसाने के लिए भेजी प्रज्ञा ठाकुर को धमकी भरी चिट्ठी, लिफाफे में था बारूद
Bhopal News in Hindi

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 20, 2020, 7:48 PM IST
आरोपी डॉक्टर ने परिवार को फंसाने के लिए भेजी प्रज्ञा ठाकुर को धमकी भरी चिट्ठी, लिफाफे में था बारूद
सांसद प्रज्ञा ठाकुर को धमकी भरा लेटर मिलने का मामला.

अपने भाई, मां, रिश्तेदारों और पड़ोसियों से बदला लेने की नीयत से रहमान ने जाली दस्तावेज तैयार कर जगह-जगह धमकी भरे लेटर भेजे थे.

  • Share this:
भोपाल से बीजेपी सांसद (BJP MP) प्रज्ञा सिंह ठाकुर (PRAGYA THAKUR) को मिली धमकी भरी चिट्ठी (LETTER) मामले का खुलासा हो गया है. नांदेड़ के जिस आरोपी डॉक्टर अब्दुल रहमान को पुलिस ने पकड़ा है, उसने संपत्ति विवाद (Property dispute) के कारण अपने परिवार को फंसाने के लिए ये चिट्टी भेजी थी. ATS की पूछताछ में उसने ये ख़ुलासा किया है.

13 जनवरी को प्रज्ञा ठाकुर के बंगले पर एक धमकी भरी चिट्ठी पहुंचने से हड़कंप मच गया था.साध्वी ने इसे आतंकी साजिश करार दिया था और अपनी जान को ख़तरा बताया था. पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की थी. मामला एक जनप्रतिनिधि से जुड़े होने और आतंकी कनेक्शन की आशंका के चलते एटीएस ने जांच के बाद नांदेड़ से आरोपी डॉक्टर अब्दुल रहमान को गिरफ्तार किया. पूछताछ में आरोपी डॉक्टर ने चौंकाने वाले खुलासे किए. वो पेशे से होम्योपैथिक डॉक्टर है, जो नांदेड़ में प्राइवेट क्लीनिक चलाता है.

ATS की पूछताछ में खुलासे...?
आरोपी डॉ. सैयद अब्दुल रहमान ने पूछताछ में ATS को जो बताया उसके मुताबिक उसका अपने भाई हफीज़ उर रहमान और मां नासेहा बेगम के साथ शादी और संपत्ति की वजह से विवाद चल रहा है. इसी विवाद में भाई ने 2014 में डॉ. सैयद अब्दुल रहमान के खिलाफ हत्या की कोशिश की एफआईआर दर्ज करायी थी. उस केस में रहमान को 18 दिन जेल में रहना पड़ा था. अपने भाई, मां, रिश्तेदारों और पड़ोसियों से बदला लेने की नीयत से रहमान ने जाली दस्तावेज तैयार कर जगह-जगह धमकी भरे लेटर भेजे थे.

यहां गयीं चिट्ठियां
आरोपी डॉ. सैयद अब्दुल रहमान ने पहला लेटर अंसार उल मुसलमीन संगठन के नाम से अपने भाई के चांसलर को सितंबर 2019 में भेजा था. जिस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई. उसके बाद दूसरा लेटर नांदेड़ के पुलिस अधीक्षक और डीएसपी को अगस्त 2019 में भेजा. इस पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई. तीसरा लेटर अक्टूबर 2019 में इंटरनेट पर सर्च कर कश्मीर के बीजेपी नेता और सांसद प्रज्ञा ठाकुर को भेजा.

उर्दू में ख़त और दस्तावेज़प्रज्ञा ठाकुर को भेजे लिफाफे में आरोपी ने उर्दू भाषा का एक पत्र, भाई की मार्कशीट, अन्य दस्तावेज के साथ मां नासेहा बेगम का वोटर आईडी कार्ड भेजा था. लिफाफे में व्हाट्सअप के साथ इंटरनेट के जरिए रिश्तेदार और पड़ोसियों के फोटो भेजे थे. आरोपी का कहना है कि लेटर के साथ उसने जो पाउडर भेजा है वो पटाखों में इस्तेमाल होने वाला बारूद है. अभी इस पाउडर की जांच रिपोर्ट एफएसएल से आई नहीं है.

पूछताछ जारी
दो दिन के रिमांड के बाद एटीएस ने फिर आरोपी डॉ. सैयद अब्दुल रहमान का सात दिन का पुलिस रिमांड लिया है.आरोपी द्वारा किए गए खुलासे की पड़ताल एटीएस हर एंगल से कर रही है.

ये भी पढ़ें:-

भोपाल में सड़क हादसों पर लगा ब्रेक : ट्रैफिक पुलिस के प्लान ने किया ये कमाल

राजगढ़ थप्पड़ कांड : कलेक्टर के खिलाफ FIR कराने जाएंगे BJP नेता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 7:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर