अपना शहर चुनें

States

मध्य प्रदेश से तीन हजार लड़कियां लापता, पुलिस विशेष अभियान चलाकर ढूंढ़ेगी

. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह (CM Shivraj) ने कहा मैंने पुलिस को टारगेट दिया है कि गायब बेटियों को कहीं से भी ढूंढ कर लाओ. काम धंधे के लिए प्रदेश से बाहर जाने या आने वाली बेटियों का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (MP) से लापता हुई नाबालिग बच्चियों की नये सिरे से तलाश की जाएगी. सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) ने बच्चियों को ढूंढ़ने के लिए विशेष अभियान चलाने का ऐलान किया है. अब प्रदेश से बाहर आने और जाने वाली लड़कियों का पुलिस रजिस्ट्रेशन करेगी.

भोपाल के मिंटो हॉल में क्रेडिट कैम्प महिला स्व-सहायता समूहों का कार्यक्रम हुआ. इसमें 200 करोड़ रुपये का ऋण बांटा गया. कार्यक्रम में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशभर की महिला समूहों से वर्चुअल संवाद भी किया. उन्होंने सरकारी स्कूलों की यूनिफॉर्म महिला स्व सहायता समूह से बनवाने का ऐलान किया.

 गरीबी मिटाने का दावा
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा मैं इन महिला स्व सहायता समूह के दम पर मध्य प्रदेश में गरीबी मिटा दूंगा. जरूरत पड़ी तो देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी ये समूह अपने उत्पाद बेचेंगे. मार्केटिंग, ब्रांडिंग में सरकार इनकी मदद करेगी.आज इसका पोर्टल लॉन्च किया गया. इस पोर्टल के जरिए स्व सहायता समूह के सामान को देश के साथ विदेशों में बेचने की व्यवस्था की जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि पोषण आहार बड़े-बड़े ठेकेदार बनाते थे, लेकिन यह तय किया कि खाना महिला स्व सहायता समूह बनाएंगे. कारखाने खोले गए औऱ काम हो रहा है. नशा माफिया को जड़ से खत्म करने के आदेश दिए हैं. महिलाओं से नशा मुक्ति अभियान चलाने की अपील की.



अभियान चलाकर बेटियों को खोजेगी सरकार...
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा प्रदेश से 3000 बच्चियां गायब हुई हैं. इन्हें खोजने के लिए अभियान चलाया जाएगा. उन्होंने कहा मैंने पुलिस को टारगेट दिया है कि गायब बेटियों को कहीं से भी ढूंढ कर लाओ. काम धंधे के लिए प्रदेश से बाहर जाने या आने वाली बेटियों का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा. पुलिस अपने पास रजिस्ट्रेशन करेगी. मेहनत मजदूरी के नाम पर बाहरी लोग बेटियों को ले जाते हैं इसलिए महिला स्व-सहायता समूह इसका ध्यान रखें. भोले भाले लोगों को पैसे डबल करने के नाम पर झांसा देने वालों पर भी महिला स्व- सहायता समूह नजर रखें. स्व सहायता समूह आधी आबादी की जिंदगी बदलने का अभियान है. हर बहन लखपति बन जाए ये सपना है. हर महीने एक लाख आय होना चाहिए. सरकार पूरी मदद करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज