लोकसभा चुनाव 2019: MP के इन 15 BJP सांसदों का कट जाएगा टिकट!

बीजेपी में 29 लोकसभा सीटों के लिए हुई फीडबैक बैठक में ये बात सामने आई है कि करीब 15 सांसदों के टिकट कट सकते हैं

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 17, 2019, 7:57 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: MP के इन 15 BJP सांसदों का कट जाएगा टिकट!
File Photo
Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 17, 2019, 7:57 PM IST
टिकट बंटवारे की घड़ी आते ही नेताओं की धड़कने तेज़ हो गई हैं. सबसे ज्यादा पतली हालत उन सांसदों की है जिन पर टिकट कटने का खतरा मंडरा रहा है. बीजेपी में 29 लोकसभा सीटों के लिए हुई फीडबैक बैठक में ये बात सामने आई है कि करीब 15 सांसदों के टिकट कट सकते हैं.

दरअसल, टिकट के लिए जोरआजमाइश का खेल शुरु हो गया है. कई नए दावेदार मैदान में हैं तो कुछ मौजूदा सांसदों के टिकट पर खतरा मंडरा रहा है. बीजेपी में हुई 29 लोकसभा सीटों के फीडबैक बैठकों में ये बात सामने आई है कि 15 सांसदों के खिलाफ निगेटिव फीडबैक मिला है.

शिवराज सिंह चौहान भी बन गए 'चौकीदार', BJP नेताओं ने बदल लिए अपने नाम!



इसके साथ ही नमो एप के जरिए हुए सर्वे पीपुल्स पल्स में भी सांसदों के कामकाज का फीडबैक पीएम मोदी तक पहुंच चुका है. इस आधार पर कई नेताओं की सांसदी पर संकट के बादल हैं. हालांकि बड़े नेताओं की मानें तो टिकट देने या न देने का फैसला केंद्रीय आलाकमान करेगा.

बीजेपी में जिन सांसदों के खिलाफ निगेटिव फीडबैक है और जिनके टिकट पर खतरा मंडरा रहा है उनमें,
भिंड सांसद डॉ भागीरथ प्रसाद
सागर सांसद लक्ष्मीनारायण यादव
Loading...

शहडोल सांसद ज्ञान सिंह
बालाघाट सांसद बोध सिंह भगत
बैतूल सांसद ज्योति धुर्वे
खरगौन सांसद सुभाष पटेल
धार सांसद सावित्री ठाकुर
मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता
भोपाल सांसद आलोक संजर
राजगढ़ सांसद रोडमल नागर
होशंगाबाद सांसद राव उदय प्रताप सिंह
देवास सांसद मनोहर ऊंटवाल विधायक बन चुके हैं
खजुराहो सांसद नागेंद्र सिंह विधायक बन चुके हैं
विदिशा सांसद सुषमा स्वराज चुनाव लड़ने से मना कर चुकी हैं

इन सबके बीच वो दावेदार भी सामने आ रहे हैं जो टिकट पाने की ख्वाहिश रखते हैं और बड़े नेताओं की परिक्रमा में लगे हैं. उधर कई ऐसी सीट भी हैं जहां बीजेपी डैमेज कंट्रोल में जुट गई है. चुनाव में बीजेपी को उम्मीदवारों के टिकट तय करने से ज्यादा नेताओं के आपसे झगड़े निपटाने में मेहनत करनी पड़ रही है. आलम ये है कि झगड़े चुनावी हार का कारण न बन जाए इसलिए बाकायदा दिग्गजों को जिम्मेदारी दी गई है.

यह पढ़ें- सिंधिया के गढ़ से उठी मांग- शिवराज सिंह चौहान या फिर हेमा मालिनी!
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...