Home /News /madhya-pradesh /

यही है लोकतंत्र की ताक़त : चायवाला पीएम, किसान का बेटा सीएम - शिवराज

यही है लोकतंत्र की ताक़त : चायवाला पीएम, किसान का बेटा सीएम - शिवराज

madhya pradesh assembly2018 : सीएम शिवराज का कहना है कि इस चुनाव में लक्ष्य 200 सीट जीतने का है. जनता का समर्थन मिल रहा है. मुझे पार्टी ने एमपी में काम करने का आदेश दिया है.

सीएम शिवराज सिंह चौहान का कहना है अगर चुनाव आयोग प्रचार की समय सीमा रात 10 बजे तय ना करता तो हम तो सुबह 4 बजे तक प्रचार करते रहते. हमें नया मध्य प्रदेश बनाने के लिए काम करने की ऊर्जा, एक तड़प, ज़िद, जुनून औऱ जज़्बा है. मैं जनता से प्यार करता हूं. जहां नाइट लैंडिग नहीं होती वहा हेलिकॉप्टर से उतर नहीं पाता, वहां कार से जाते हैं लेकिन ऐसी कोई टैक्नालॉजी होती तो रात में भी उड़ते.

गुस्सा आता है

सीएम शिवराज सिंह को कांग्रेस के उस कृत्रिम विज्ञापन पर गुस्सा आता है, जिसमें लोगों से कहलवाया गया कि उन्हें शिवराज सरकार पर गुस्सा आता है. सीएम ने कहा- मैं जनता से पूछता हूं कि क्या आपको गुस्सा आता है, तो जनता कहती है कि नहीं उन्हें गुस्सा नहीं आता. सीएम का दावा है बीजेपी सरकार के 15 साल के विकास ने जनता की ज़िंदगी बदल दी है. एमपी बीमारू से विकासशील बनकर विकसित हुआ है. इसलिए कांग्रेस परेशान है. वो सोचते हैं अब गई बीजेपी. दरअसल काम के आधार पर जनता फिर से बीजेपी को चुन लेती है इसलिए कांग्रेस को गुस्सा आता है.

ये तो लोकतंत्र का कमाल है
सीएम शिवराज सिंह चौहान कहते हैं कि ये तो लोकतंत्र का कमाल है कि चाय बेचने वाले परिवार से एक प्रधानमंत्री निकला और हल चलाने वाला मुख्यमंत्री बन गया. कांग्रेस में एक वर्ग है जो ये मानता है कि सत्ता पर उनका एकाधिकार है. बौखलाहट में कांग्रेस कमर के नीचे वार करती है. किसान का बेटा कैसे सरकार चला रहा है.

कांग्रेस कन्फ्यूज़ है

शिवराज सिंह चौहान कहते हैं कि कांग्रेस कन्फ्यूज है. उनके नेता भी कहते हैं कि मैं कन्फ्यूज़ हो गया था. कन्फ्यूज़न इस बात का है कि सीएम कैंडिडेट किसे बनाएं. डर है कि एक को बनाया तो बाक़ी मिलकर उसे निपटा देंगे. अंगूर लटका दो तो हर कोई खाने की कोशिश करता है.

वीर ही करते हैं घोषणा

सीएम मानते हैं कि जो वीर होता है वही घोषणा करता है. हम घोषणा भी करते हैं औऱ उसे पूरा भी करते हैं. हम घोषणा मशीन इसलिए हैं कि हम जनता की आकांक्षा पूरा करने का प्रयास करते हैं. राहुल गांधी तो फ़न मशीन हैं. अजीब बात करते हैं. मेड इन चित्रकूट औऱ मेड इन जबलपुर बनाऊंगा...अरे मेड इन अमेठी तो बना नहीं पाए. मैं कलाकारी की नहीं जनता की सेवा की बात करता हूं.

रोम-रोम में बसे राम

शिवराज सिंह चौहान कहते हैं कि भगवान राम हमारे अस्तित्व हैं. हमारे आराध्य हैं. हमारे प्राण हैं. हमारे भगवान हैं. भारत की पहचान हैं. राम हमारे रोम-रोम में रमे हैं.सांसों में बसे हैं. मैं भी भगवान राम की बचपन से पूजा करता हूं. राम तो वंदनीय हैं. राम मंदिर करोड़ों भारतीयों की आस्था का केन्द्र है. लेकिन बीजेपी साफ मानती है कि शांतिपूर्वक, चर्चा के ज़रिये औऱ कोर्ट के फैसले के आधार पर या फिर कानून बनाने का रास्ता है. हमारी पार्टी सभी विकल्पों पर विचार करती है.

राहुल पर हंसी

राहुल गांधी के राम भक्त औऱ शिव भक्त बनने पर शिवराज सिंह हंसते हैं. वो कहते हैं कांग्रेस को लग गया है कि बिना राम, गंगा और गौ माता के चुनाव की वैतर्णी पार नहीं होगी. श्रद्धा औऱ आस्था के कारण नहीं, चुनाव में कैसे लाभ मिले इसलिए वो हिंदुत्व से जुड़े मुद्दे उठा रहे हैं.

पीएम के फैन

शिवराज सिंह चौहान मानते हैं कि पीएम मोदी एक समर्पित देशभक्त, कर्मठ नेता हैं. जिनके मन में तड़प है औऱ बिना विश्राम किए देश के लिए काम कर रहे हैं. उनका अपना कोई स्वार्थ नहीं है. कैसे भारत को वैभवशाली बनाएं. स्वाभिमानी भारत बनाने में मोदीजी लगे हुए हैं. इसलिए मैं मानता हूं कि नरेन्द्र मोदी भारत के लिए भगवान का वरदान हैं. ऐसे पीएम की भारत को आवश्यकता थी.

राहुल की बातों में विरोधाभास

एमपी के मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान कहते हैं कि राहुल गांधी की बातों में विरोधावास हैं. किसानों का कर्ज़ माफ़ हो सकता है या नहीं इस पर खुद राहुल गांधी क्लियर नहीं हैं. इंदिरा गांधी के -गरीबी हटाओ नारे का क्या हुआ. चुनाव के लिए कहना औऱ भूल जाना ये कांग्रेस की आदत है.

दिग्विजय-कमलनाथ पर वार

सीएम शिवराज सिंह चौहान का आरोप है कि दिग्विजय सिंह अकेले सरकार नहीं चला रहे थे. कमलनाथ भी उस सरकार को प्रभावित करते थे. कहते हैं एमपीईबी का पूरा जिम्मा कमल नाथ के हाथ में था. चेयरमैन से लेकर इंजीनियर तक, सब कमल नाथ की पसंद के थे. एमपी में कई अघोषित मुख्यमंत्री थे, सबने मिलकर मध्य प्रदेश की बदहाली की.

फिर बनेगी बीजेपी की सरकार

सीएम शिवराज का कहना है कि इस चुनाव में लक्ष्य 200 सीट जीतने का है. जनता का समर्थन मिल रहा है. क्या शिवराज सिंह अब दिल्ली जाएंगे, इस सवाल पर वो कहते हैं, मुझे पार्टी ने एमपी में काम करने का आदेश दिया है. मैं मध्य प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता से जुड़ा हूं. इस जनता का कल्याण मेरी जिंदगी का मकसद है,मिशन है, मैं मध्य प्रदेश में रहकर ही काम करूंगा.

Tags: Assembly Election 2018, Madhya Pradesh Assembly Election 2018, Madhya pradesh news, Shivraj singh chauhan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर