लाइव टीवी

'माननीयों' के आशियाने के लिए भोपाल में फिर काट दिए गए हज़ारों पेड़

Jitendra Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 29, 2019, 10:28 PM IST
'माननीयों' के आशियाने के लिए भोपाल में फिर काट दिए गए हज़ारों पेड़
एमएलए रेस्ट हाउस के लिए भोपाल में फिर हज़ारों पेड़ काट दिए गए

विधायकों (mla) के लिए शहर की हरियाली (Greenery) नष्ट की जा रही है लेकिन मामला खुद के स्वार्थ का है, इसलिए इस मामले में पक्ष-विपक्ष सब एक हैं. मंत्री पी सी शर्मा (p c sharma) का कहना है नियम के मुताविक काम चल रहा है.

  • Share this:
भोपाल. भोपाल (bhopal) में विधायकों (MLA) के लिए नया रेस्ट हाउस (Rest house) बन रहा है. लेकिन उनका ये घरौंदा राजधानी (capital) की हरियाली को रौंद कर बनाया जा रहा है. अब तक ढाई हज़ार से ज़्यादा पेड़ (trees) काटे जा चुके हैं और ना जाने कितने काटे जाना हैं.

नया रेस्ट हाउस
भोपाल में विधानसभा के सामने नया विधायक रेस्ट हाउस बनाया जा रहा है. हरियाली से भरपूर अरेरा पहाड़ी पर ये खड़ा किया जा रहा है. दो साल पहले जब इसका काम शुरू हुआ था तब 1139 हरे भरे पेड़ काट दिए गए थे. तब से अब तक ढाई हज़ार से ज़्यादा पेड़ों की बलि दी जा चुकी है. जो लोग हरे-भरे मध्य प्रदेश के वादे और दावे करते हैं उन्हीं के लिए शहर की हरियाली को उजाड़ दिया गया. इसे मिलाकर अब तक राजधानी के अलग-अलग प्रोजेक्ट्स के लिए 10 हज़ार से ज़्यादा पेड़ काटे जा चुके हैं.
भोपाल में लगातार घट रहा है वन क्षेत्र

नये एमएलए रेस्ट हाउस के लिए 2015-2016 में अनुमानित लागत 65 से 70 करोड़ थी, जो 2019 में बढ़कर 137 करोड़ रुपए हो गई.भोपाल शहर झील, पहाड़ और हरियाली के लिए जाना जाता है. मगर पिछले कुछ साल से यहां हरियाली का स्तर लगातार घट रहा है. शहर की हरियाली उजाड़ने के पीछे सबसे ज़्यादा हाथ इन ज़िम्मेदारों का ही है. कभी नर्मदा पाइप लाइन, तो कभी BRTS कॉरिडोर और स्मार्ट सिटी के नाम पर शिवराज सरकार के दौरान लाखों पेड़ काटे गए. ताजा उदाहरण न्यू एमएलए रेस्ट हाउस का है. भोपाल विधानसभा के सामने के फॉरेंस्ट एरिया को खत्म किया जा रहा है. तीन साल पुराने इस प्रोजेक्ट में गुपचुप तरीके से हज़ारों पेड़ों को काटा जा चुका है.
पर्यावरण प्रेमियों को फिक्र
पर्यावरण प्रेमियों को जब इसकी भनक लगी तो उन्होंने इसका विरोध किया. तत्कालीन शिवराज सरकार ने इस प्रोजेक्ट को रोक दिया था. लेकिन अब फिर से इसे आगे बढ़ाया जा रहा है. हाल के दिनों में भोपाल में अलग-अलग प्रोजेक्ट्स के लिए 10000 हजार पेड़ों को पहले ही काटा जा चुका है. अब नया एमएलए रेस्ट हाउस बनाने के लिए हरियाली को नष्ट किया जा रहा है.
Loading...

माननीयों के लिए तमाम सुविधाएं
भोपाल शहर में पहले से ही विधायकों के लिए रेस्ट हाउस और रेसिडेंशियल हाउस हैं. भोपाल के कई क्षेत्रों में विधायकों के लिए घर और रेस्ट हाउस हैं, जो आज भी अच्छी कडीशंन में हैं. 74 बंगले, 45 बंगले,श्यामला हिल्स, जवाहर चौक, रिवेरा टाउन, शिवाजी नगर, तुलसी नगर, न्यू मार्केट इलाके में पहले से ही विधायक और मंत्रियों के लिए बंगले हैं. नये प्रोजेक्ट्स में रचना टावर में भी 230 विधायकों के हिसाब से फ्लैटस बन कर तैयार हैं. हालांकि यहां सामने श्मशान होने के कारण विधायक यहां रहने के लिए तैयार नहीं हैं.
ग़रीबों के लिए जगह नहीं
विधानसभा परिसर के सामने बन रहे नए रेस्ट हाउस में हाउसिंग फॅार ऑल स्कीम के तहत गरीबों के रहने की कोई व्यवस्था नहीं है. यहां सिर्फ विधायकों के ही रहने और ठहरने के लिए आवास बन रहे है. जिसमें नियमों को कहीं न कहीं शिथिल किया जा रहा है.
हम सब एक हैं
माननीयों के लिए शहर की हरियाली नष्ट की जा रही है लेकिन मामला खुद के स्वार्थ का है, इसलिए इस मामले में पक्ष-विपक्ष सब एक हैं. मंत्री पी सी शर्मा का कहना है नियम के मुताविक काम चल रहा है. वहीं bjp विधायक रामेश्वर शर्मा कह रहे हैं कि ये विधानसभा अध्यक्ष के कार्यक्षेत्र का मामला है.मतलब साफ है खुद के लिए बन रहे आवासों के लिए जनप्रतिनिधियों को हरियाली उजड़ने से भी कोई फर्क नहीं पड़ रहा.
कब-कब काटे गए पेड़
टी टी नगर में सेन्ट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट (सीबीडी) में सबसे ज्यादा तीन हजार पेड़ काटे गए. उसके बाद बीआरटीएस कॉरिडोर के लिए 2400, नरसिंहगढ़ हाईवे, सिंगारचोली ब्रिज प्रोजेक्ट में भी 3000 हजार से ज्यादा पेड़ काटे गए. उसके बाद नर्मदा पाइप लाइन डालने के लिए अरेरा हिल पर 400 पेड़ों और शौर्य स्मारक अरेरा हिल पर 200 पेड़ काटे गए. भोपाल-बीना-इटारसी रेल लाइन के लिए 100,सिंगार चोली ब्रिज और सड़क चौड़ीकरण के लिए 1000,नए विधायक विश्राम गृह के लिए 1139,हबीबगंज स्टेशन (मानसरोवर काम्पलेक्स से गणेशमंदिर के सामने तक) 123,हबीबगंज स्टेशन रेनोवेशन प्रोजेक्ट 1382,एयरपोर्ट रोड सड़क चौड़ीकरण प्रोजेक्ट (नरसिंहगढ़ हाईवे) 2433 पेड़ काटे गए.ये सारे काम शिवराज सरकार के दौरान किए गए. अभी शहर में स्मार्ट सिटी का काम चल रहा है. वहां 5600 पेड़ हैं. इनमें से लगभग 1000 पेड़ काटे जा चुके हैं.
ये हो सकता था
पुराने विधायक विश्राम गृह में ही री-डेवलपमेंट करके नए विश्राम गृह बनाए जा सकते हैं.उसके बावजूद हरे भरे पेड़ों को काटा जा रहा है. विधायकों के लिए पहले से ही सरकार में कई सुविधाएं हैं.
ऐसे तो प्रदूषण और बढ़ेगा
हरियाली को मिटाकर निर्माण होगा तो प्रदूषण और बढ़ेगा. भोपाल में ग्रीन कवर 10 साल में 26%घट गया है. भोपाल में पीएम-10 और पीएम-2.5 का स्तर बढ़ रहा है. ट्रैफिक बढ़ने से कार्बन उत्सर्जन भी लगातार बढ़ता जा रहा है.

ये भी पढ़ें-MP के ADGP ने 'आउट ऑफ टर्न प्रमोशन' का सुझाया तरीका, कहा- स्नेचर्स को 'ठोक दो'

टोल टैक्स मांगा तो पुलिसवाले की बेटी ने चला दिए चाकू, 2 कर्मचारी घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 10:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...