Covid-19: मध्य प्रदेश में आज रात 12 बजे से थम जाएंगे ट्रकों के पहिये, तीन दिन तक रहेगी हड़ताल
Indore News in Hindi

Covid-19: मध्य प्रदेश में आज रात 12 बजे से थम जाएंगे ट्रकों के पहिये, तीन दिन तक रहेगी हड़ताल
ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने राज्य में सोमवार से बुधवार तक बुलाई गई हड़ताल को "लॉकडाउन" का नाम दिया है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में ट्रांसपोर्टरों (Transporter) के एक प्रमुख संगठन ने सोमवार से तीन दिन की हड़ताल की घोषणा की है. ट्रांसपोर्ट संगठन ने कोविड-19 (Covid-19) की मार का हवाला देते हुए डीजल पर मूल्य संवर्धित कर (वैट) में कमी के साथ पथ कर (रोड टैक्स) और वस्तु एवं सेवा कर (GST) में छूट की मांग कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 9, 2020, 7:37 PM IST
  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश सरकार (Madhya Pradesh Government) द्वारा पेट्रोल और डीजल (Petrol and Diesel) पर लगाए गए टैक्स (Tax) के विरोध में ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (Transport Association) ने चक्का जाम का निर्णय लिया है. मध्य प्रदेश में ट्रांसपोर्टरों (Transporter) के एक प्रमुख संगठन ने सोमवार से तीन दिन की हड़ताल की घोषणा की है. ट्रांसपोर्ट संगठन ने कोविड-19 (Covid-19) की मार का हवाला देते हुए डीजल पर मूल्य संवर्धित कर (वैट) में कमी के साथ पथ कर (रोड टैक्स) और वस्तु एवं सेवा कर (GST) में छूट की मांग कर रहा है. ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने राज्य में सोमवार से बुधवार तक बुलाई गई हड़ताल को लॉकडाउन (Lockdown) का नाम दिया है.

क्या कहना है संगठन का
संगठन के उपाध्यक्ष (पश्चिमी क्षेत्र) विजय कालरा ने रविवार को बताया, "हमारे तीन दिवसीय लॉकडाउन के दौरान सूबे में करीब सात लाख वाणिज्यिक वाहनों के चक्के थम जायेंगे, इनमें ट्रक और छोटी वाणिज्यिक गाड़ियां शामिल हैं." कालरा ने प्रदेश की सीमाओं पर परिवहन विभाग की जांच चौकियों में भारी भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए यह मांग भी कि इन चौकियों को तुरंत बंद किया जाए.

सोमवार से बुधवार तक बुलाई गई हड़ताल
कालरा ने बताया कि कोविड-19 के प्रकोप के कारण कारोबार में कमी के चलते राज्य के ट्रांसपोर्टर वित्तीय परेशानियों का सामना कर रहे हैं और डीजल के दाम पहले के मुकाबले काफी बढ़ चुके हैं. इन हालात में हमारी मांग है कि डीजल पर वैट घटाया जाए, ट्रांसपोर्टरों को इस वित्तीय वर्ष की दो तिमाहियों (अप्रैल-जून और जुलाई-सितंबर) के दौरान रोड टैक्स और जीएसटी से छूट दी जाए और राज्य सरकार द्वारा ट्रक चालकों का कोविड-19 का बीमा कराया जाए"



ये भी पढ़ें: UPSC Civil Services Result 2019: मिलिए राहुल मिश्रा से, गांव में रह कर यूपीएससी की तैयारी और दूसरे प्रयास में ही गाड़ा झंडा

मध्य प्रदेश में ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन की इस हड़ताल को पड़ोसी राज्यों उत्तर प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात के ट्रांसपोर्टर्स का भी समर्थन मिला है. इन राज्यों के ट्रांसपोर्टर ने ऐलान किया है कि अगले तीन दिनों तक कोई भी ट्रांसपोर्टर मध्यप्रदेश में माल नहीं भेजेगा. ऐसे में अगर मध्य प्रदेश में यदि कोई बाहरी राज्यों के कमर्शियल व्हीकल नहीं आए तो तीन दिनों के दौरान दवाईयों से लेकर रोजमर्रा की चीजों की सप्लाई प्रभावित होगी.

(भाषा)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज