CM शिवराज सिंह चौहान के ओएसडी नहीं बनेंगे तुषार पांचाल, ट्वीट कर दी जानकारी

तुषार पांचाल सीएम शिवराज के साथ 2015 से जुड़े हुए हैं.

तुषार पांचाल सीएम शिवराज के साथ 2015 से जुड़े हुए हैं.

दरअसल तुषार पांचाल मुंबई के रहने वाले हैं. बीते 6 सालों से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का सोशल मीडिया संभाल रहे हैं. सरकार ने उन्हें संविदा के आधार पर ओएसडी नियुक्त किया था लेकिन सरकार के इस जारी आदेश के बाद राजनीतिक घमासान शुरू हो गया और तुषार पंचाल ने सीएम का ओएसडी बनने से इनकार कर दिया है.

  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री सचिवालय में बनाए गए ओएसडी तुषार पांचाल को लेकर जमकर सियासी घमासान मचा हुआ है. 7 जून को सरकार के जारी एक आदेश में तुषार पांचाल को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ओएसडी बनाया गया था लेकिन तुषार की नियुक्ति को लेकर प्रदेश में सियासी बवाल मच गया. कांग्रेस ने एक के बाद एक ट्वीट कर तुषार पांचाल के पुराने ट्वीट सार्वजनिक कर दिए जिसमें तुषार ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा था. सियासी बवाल इतना मचा कि तुषार पांचाल ने आज ट्वीट कर कहा कि वह मुख्यमंत्री के ओएसडी नहीं बनेंगे. विपक्षी नेताओं के उठाए गए सवालों के बाद तुषार ने ट्वीट कर यह जानकारी दी.

दरअसल तुषार पांचाल मुंबई के रहने वाले हैं. बीते 6 सालों से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का सोशल मीडिया संभाल रहे हैं. सरकार ने उन्हें संविदा के आधार पर ओएसडी नियुक्त किया था लेकिन सरकार के इस जारी आदेश के बाद राजनीतिक घमासान शुरू हो गया और तुषार पंचाल ने सीएम का ओएसडी बनने से इनकार कर दिया है.

दरअसल कांग्रेस के प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने तुषार पांचाल के कुछ पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर किए थे जिसमें तुषार पीएम मोदी के खिलाफ बोलते नजर आए थे. कांग्रेस ने अपने ट्वीट में इस बात का भी जिक्र किया कि पीएम मोदी के धुर विरोधी को मुख्यमंत्री का ओएसडी बनाया गया.

दरअसल तुषार पांचाल सीएम शिवराज के साथ 2015 से जुड़े हुए हैं. 2018 के चुनाव में तुषार के पास अहम जिम्मेदारी थी. 2018 के चुनाव के बाद सत्ता से बीजेपी की बेदखली पर भी वो शिवराज सिंह चौहान का सोशल मीडिया संभाल रहे थे और इस दौरान उन्होंने कमलनाथ के खिलाफ अभियान भी जमकर चलाया. शिवराज चौथी बार सत्ता में लौटे तब भी तुषार पांचाल उनके साथ थे. हालांकि अपनी नियुक्ति के बाद से ही सुर्खियों में आए तुषार ने आज खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी कि वह मुख्यमंत्री के ओएसडी का पद नहीं लेंगे. तुषार का यह ट्वीट उनकी नियुक्ति को लेकर मचे सियासी बवाल को थामने की कोशिश है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज