झिरनिया मर्डर केस में प्रत्यपर्ण संधि का पेंच, अबु सलेम पर 2 नवंबर को होगा अंतिम फैसला

Manoj Rathore | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 13, 2017, 1:15 PM IST
झिरनिया मर्डर केस में प्रत्यपर्ण संधि का पेंच, अबु सलेम पर 2 नवंबर को होगा अंतिम फैसला
अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम
Manoj Rathore | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 13, 2017, 1:15 PM IST
फर्जी पासपोर्ट मामले में पुर्तगाल से प्रत्यर्पण कर भारत लाया गया अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम फिर से चर्चाओं में है. इस बार चर्चा भोपाल के झिरनिया में हुए दोहरे हत्याकांड को लेकर हो रही है. भोपाल पुलिस ने झिरनिया मर्डर केस में अबु सलेम को आरोपी बनाया है. लेकिन प्रत्यर्पण संधि के तहत अबु सलेम पर पर सिर्फ नौ केस चलना है और झिरनिया मर्डर दसवां केस है. अबु सलेम पर झिरनिया मर्डर केस चलेगा या फिर नहीं, इसको लेकर हाईकोर्ट में दो नवंबर को अंतिम सुनवाई होगी.

दरअसल, अबु सलेम ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. जिसमें पुर्तगाल से हुई प्रत्यपर्ण संधि के उल्लंघन का आरोप लगाया था. जबलपुर हाईकोर्ट के अलावा अबू सलेम की तरफ से मुंबई की टाडा कोर्ट में पेश की गई आपत्ति पर मध्यप्रदेश पुलिस अपना पक्ष पेश कर चुकी है. पुलिस ने टाडा कोर्ट में अपने जवाब में कहा कि अबु सलेम भारत में है और झिरनिया हत्याकांड मामले में फिर से सुनवाई हो सकती है. पुलिस ने भोपाल जिला कोर्ट में अबु सलेम को पेश करने की अनुमति मांगी. इधर, टाडा कोर्ट के साथ अबु सलेम ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर झिरनिया मर्डर केस में सुनवाई करना पुर्तगाल की प्रत्यर्पण संधि का उल्लंघन बताया. अबु सलेम ने याचिका में बताया कि पुर्तगाल से प्रत्यर्पण कर लाए जाने के समय झिरनिया हत्याकांड की जानकारी नहीं दी गई थी. इसलिए इस प्रकरण की ट्रायल से छूट दी जाए. झिरनिया हत्याकांड की सुनवाई भोपाल जिला अदालत में चल रही है.

क्या है झिरनिया मर्डर केस
2002 में परवलिया इलाके के झिरनिया में अकबर उर्फ तुकाराम और नफीस की हत्या हुई थी. परवलिया पुलिस ने डबल मर्डर केस में अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम को नामजद आरोपी बनाया था. हत्या के वक्त अबु सलेम भोपाल में नहीं था, लेकिन उसके इशारे पर शॉर्प शूटरों ने वारदात की थी. अकबर शॉर्प शूटर था और वह अबु सलेम के लिए काम करता था. अकबर अबु सलेम का राजफाश नहीं करे, इसलिए सलेम ने उसकी सुपारी यूपी के शॉर्प शूटरों की दी थी.
First published: October 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर