MP के प्रसिद्ध स्मारकों पर पर्यटन बढ़ाने पर होगा जोर, केंद्रीय मंत्री ने की शिवराज से चर्चा

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से चर्चा की. (फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से चर्चा की. (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश में पर्यटन स्थलों का अंबार है. इसे और बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात की. प्रदेश में अभी कई समारोह होने हैं. इन पर भी दोनों के बीच विचार-विमर्श किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 1:30 PM IST
  • Share this:
भोपाल/नई दिल्ली. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल के बीच प्रदेश के पर्यटन को बढ़ावा देने पर विचार किया गया. केंद्रीय मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री चौहान के साथ खुजराहो में होने वाले लोकार्पण कार्यक्रम पर चर्चा की गई. समय आने पर राज्य के प्रमुख स्मारकों पर पर्यटन को बढ़ावा देने की कोशिश की जाएगी. उन्होंने बताया कि 20 तारीख को रानी अवंति बाई का बलिदान दिवस है इसे लेकर भी होने वाले कार्यक्रम पर चर्चा हुई है.

पटेल नई दिल्ली में मीडिया से कई मुद्दों पर चर्चा कर रहे थे. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल खड़े करने पर उन्होंने कहा कि ममता को चुनाव में हार महसूस हो गई है. इसलिए बौखलाहट में वे किसी भी सीमा तक नीचे गिर रही हैं. उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि संस्थागत विश्वास बचा रहना चाहिए, यह हर दल की जिम्मेदारी है.

घोषणा पत्र मरघट ज्ञान से ज्यादा कुछ नहीं- पटेल

प्रह्लाद पटेल ने दावा किया कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार को हटाने का मन जनता ने बना लिया है. इस बारे में उत्तर बंगाल में लोकसभा चुनाव के समय ही लोगों ने फैसला सुना दिया हैं. केंद्रीय मंत्री ने कटाक्ष करते हुए कहा कि ममता बनर्जी का इकबाल बहुत पहले ही राज्य में खत्म हो चुका है. अब तो सिर्फ संवैधानिक उम्र को दीदी पूरा कर रही हैं. TMC का जाना तय है, घोषणा पत्र मरघट ज्ञान से ज्यादा कुछ नहीं है. TMC घोषणा पत्र में आज जो वायदे कर रही है. उन्हें पहले भी कर सकती थी, मगर तब कुछ नही किया, अब चुनाव में इन बातों का कोई फर्क जनता पर नहीं पड़ने वाला है.
जवाब तो देना होगा ममता को

घोषणा पत्र के वायदों के जरिए लोगों से जुड़ने के मुद्दे पर प्रह्लाद पटेल ने कहा कि जब लोगों से जुड़ने का समय था तब कुछ नहीं किया. किसानों के खाते में पैसा नहीं पहुंचाया, पीएम आवास योजना में घर चेहरा देखकर दिया गया, मेरिट सूची अन्य राज्यों की तरह नहीं बनाई गई थी. पेंशन आम लोगों के स्थान पर TMC कार्यकर्ताओ को दी गई. कट मनी भी यहीं से शुरू हुआ है. इस दौरान ममता बनर्जी क्या कर रहीं थीं, जवाब तो अब उन्हें ही देना होगा.

ममता बनर्जी के पैर में चोट पर प्रह्लाद पटेल ने कहा कि राज्य में लोगो के दिलों में गहरी चोट लगी है. 130 कार्यकर्ता भाजपा के मारे गए और अन्य लोगों के साथ जो हुआ वो अलग है. ममता बनर्जी का यह चुनावी तमाशा है, मुख्यमंत्री की सुरक्षा कहां थी. भाजपा ने कुछ सवाल पूछे हैं उनका जवाब दे ममता बनर्जी. वैसे मीडिया और लोगों ने वीडियो भी बनाई है. उन्हें राजनीतिक तमाशेबाजी नही करनी चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज