बाबरी मस्जिद विध्वंस में कोर्ट के फैसले का शिवराज ने किया स्वागत, कांग्रेस ने कहा कई सवाल खड़े हुए

Babri Demolition Verdict-उमा भारती और जयभान सिंह पवैया दोनों इस मामले में आरोपी थे
Babri Demolition Verdict-उमा भारती और जयभान सिंह पवैया दोनों इस मामले में आरोपी थे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, अंततः सत्य की विजय हुई है.कांग्रेस ने जतायी निराशा.

  • Share this:
 भोपाल. अयोध्या (Ayodhya) में बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा गिराने के मामले में लखनऊ सीबीआई (CBI) स्पेशल कोर्ट के फैसले पर प्रदेश बीजेपी (BJP) में खुशी की लहर है. पार्टी ने इस फैसले का स्वागत किया है. बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में बीजेपी नेता उमा भारती और जयभान सिंह पवैया दोनों आरोपी थे.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, अंततः सत्य की विजय हुई है. तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने पूर्वाग्रह से प्रेरित होकर संतों और महात्माओं सहित वरिष्ठ नेताओं पर झूठे आरोप लगाए थे. वह सब झूठे साबित हुए हैं. दूध का दूध और पानी का पानी साफ हो गया है. बाबरी मस्जिद ढांचा गिराए जाने को लेकर कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है.





फैसले का स्वागत
वहीं प्रदेश के मंत्री विश्वास सारंग ने कहा, विवादित ढांचा गिराने पर कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य कदम है. इस फैसले से साफ हो गया कि जिन लोगों पर आरोप लगाए गए थे वह झूठे थे. साथ ही कांग्रेस की मंशा को भी कोर्ट के फैसले ने जाहिर कर दिया है.

फैसले से संतुष्ट नहीं है कांग्रेस
कांग्रेस ने इस मामले में सवाल खड़े किए हैं. पूर्व कानून मंत्री पीसी शर्मा ने कहा 28 साल पुराने मामले में लंबी सुनवाई के बाद आया फैसला कई तरह की आशंकाएं खड़ी करता है. इतने लंबे समय तक चली सुनवाई और आरोपों के बाद किसी पर मामला नहीं बनना सवालिया निशान लगाता है.

उमा और पवैया भी बरी
दरअसल कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी में खुशी की लहर इसलिए है क्योंकि प्रदेश के दो बड़े नेता उमा भारती और जयभान सिंह पवैया को आरोपी बनाया गया था. लेकिन कोर्ट ने सभी 32 आरोपियों के साथ उमा भारती जय भान सिंह पवैया को भी बरी कर दिया है. इससे पार्टी को बड़ी राहत मिली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज