Home /News /madhya-pradesh /

vyapam recruitment scam accused suspended eight days ago and reinstated kuld

अजब-गजब एमपी: व्यापमं भर्ती घोटाले के आरोपी को आठ दिन पहले निलंबित कर फिर बहाल किया

चार माह पहले भी एससीएस कंसोटिया तिवारी का तबादला निरस्त कर चुके हैं

चार माह पहले भी एससीएस कंसोटिया तिवारी का तबादला निरस्त कर चुके हैं

व्यापमं (पीईबी) चयन सूची की वैधता खत्म होने के बाद दुग्ध संघ में भर्ती करने वाले सीईओ आरपीएस तिवारी को हाईकोर्ट की फटकार के बाद निलंबित किया गया था. पशुपालन विभाग के एसीएस जेएन कंसोटिया ने तिवारी को बहाल किया.

    भोपाल. भर्ती घोटाले मामले में निलंबित किए गए भोपाल सहकारी दुग्ध संघ के मुख्य कार्यपालन अधिकारी (सीईओ) आरपीएस तिवारी को महज आठ दिन में ही बहाल कर दिया है. तिवारी पर गंभीर आरोप होने के बाद भी इस तरह के आदेश जारी होने से विभाग में हड़कंप मच गया है.
    एमपी स्टेट कॉआपरेटिव डेयरी फेडरेशन (एमपीसीडीएफ) के प्रबंध संचालक व सहकारिता आयुक्त संजय गुप्ता ने 19 अप्रैल को तिवारी को निलंबित किया था. साथ ही, विपणन प्रबंधक पंकज पांडे को भी बर्खास्त किया था. गुप्ता ने यह आदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रवि मलीमठ व न्यायाधीश पुरुषेंद्र कुमार कौरव की फटकार के बाद जारी किया था. लेकिन 28 अप्रैल को पशुपालन विभाग के अपर मुख्य सचिव (एसीएस) जेएन कंसोटिया ने तिवारी को बहाल कर दिया है. इस मामले में कंसोटिया ने कहा कि तिवारी पर बिना जांच के निलंबन की कार्रवाई की थी इसलिए बहाल किया है.
    यह भी पढ़ें: आरजीपीवी में 170 करोड़ रुपए के घोटाले में कुलपति उलझे, सरकार ने राजभवन को लिखा पत्र 

    क्या है दुग्ध संघ का भर्ती घोटाला
    एमपीसीडीएफ में 48 पदों पर भर्ती के लिए फरवरी 2016 में व्यापमं (पीईबी) ने चयन परीक्षा ली थी. इसमें चार पद विपणन प्रबंधक के थे. पीईबी ने 13 जुलाई 2016 में चयन सूची एमपीसीडीएफ को उपलब्ध करा दी थी, जो 18 माह तक प्रभावी थी और 13 जनवरी 2018 को इसकी वैधता खत्म हो गई थी. इसके बावजूद 22 सितंबर 2018 को पंकज पांडे को नियुक्ति दे दी गई थी.
    मंत्री के निर्देश भी रद्दी की टोकरी में
    चार माह पूर्व भी मंत्री प्रेम सिंह पटेल द्वारा मुख्यमंत्री को लिखे पत्र के आधार पर एमपीसीडीएफ के तत्कालीन प्रबंध संचालक ने तिवारी का तबादला किया था. लेकिन एसीएस कंसोटिया ने तिवारी का तबादला आदेश निरस्त कर दिया. दोनों बार कंसोटिया ने एमपीसीडीएफ के प्राधिकृत अधिकारी की हैसियत से हस्तक्षेप किया है.
    यह भी पढ़ें:  मध्य प्रदेश में प्राइम लोकेशन वाले सरकारी दफ्तरों को तोड़कर बनेंगे अपार्टमेंट्स और मॉल्स  

    हाईकोर्ट ने ऐसे दी थी दखल
    हाईकोर्ट में इस मामले की 13 अप्रैल को सुनवाई थी जिसमें एमपीसीडीएफ की ओर से जवाब पेश किया गया. कोर्ट ने कहा कि नियमों के विपरीत नौकरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा रही है. यही नहीं, हाईकोर्ट ने 18 अप्रैल को एमपीसीडीएफ के प्रबंध संचालक संजय गुप्ता व अन्य को तलब कर फटकार लगाई. आनन-फानन में प्रबंध संचालक ने 19 अप्रैल को तिवारी पर निलंबन की कार्रवाई कर 20 अप्रैल को कोर्ट को अवगत कराया था.

    Tags: Bhopal latest news, Madhya pradesh latest news, मध्य प्रदेश

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर