लाइव टीवी

पटवारी भर्ती परीक्षा के वेटिंग उम्मीदवारों का आरोप, काउंसलिंग में नहीं है ट्रांसपेरेंसी

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 14, 2020, 4:17 PM IST
पटवारी भर्ती परीक्षा के वेटिंग उम्मीदवारों का आरोप, काउंसलिंग में नहीं है ट्रांसपेरेंसी
पटवारी भर्ती परीक्षा के वेटिंग उम्मीदवारों ने भोपाल में धरना दिया

उम्मीदवारों की शिकायत ये भी है कि ऑनलाइन (online) की जगह ऑफलाइन काउंसलिंग होने से ट्रांसपेरेंसी खत्म हो गयी है. अगर अब भी नियुक्ति नहीं दी गयी तो 10फरवरी को वेटिंग लिस्ट (waiting list) वाले उम्मीदवारों की वैधता खत्म हो जाएगी.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) में भाजपा सरकार (bjp government) के दौरान परीक्षा में सिलेक्ट हुए पटवारियों को ज्वाइनिंग मिली कमलनाथ सरकार (kamalnath government) में. लेकिन वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवार अभी तक अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं.   ये वेटिंग उम्मीदवार फिर राजस्व मंत्री के घर के बाहर धरना देकर बैठ गए. उम्मीदवारों का आरोप है कि 7 बार काउंसलिग होने के बाद भी अभी तक उन्हें ज्वाइनिंग नहीं दी जा रही है. अब ये लोग तीसरी बार भोपाल (bhopal) में धरना दिए बैठे हैं.

मंत्री के बंगले पर धरना
पटवारी भर्ती परीक्षा में वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवारों को अभी तक नौकरी का इंतज़ार है. ये लोग अब राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के घर के बाहर धरने पर बैठे हैं.वेटिंग लिस्ट का इंतजार कर रहे उम्मीदवारों का कहना है प्रदेश भर में 9235 पदों पर पटवारियों की भर्ती निकली थी.इसमें 7800 पटवारियों को नौकरी मिल गयी. बाकी बचे 1435 पद खाली पड़े हैं. इन पर वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवारों को रखा जाना था. लेकिन अब तक पटवारियों की वेटिंग लिस्ट क्लीयर नहीं की गई है जबकि सात बार काउंसलिंग हो चुकी है.काउंसलिंग के बाद सिर्फ 100उम्मीदवारों को चुना गया है.बाकी के वेटिंग वाले प्रत्याशी अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं

इनकी शिकायत है कि वो लोग राजस्व सचिव से 30 से ज्यादा बार मिल चुके हैं.उनका कहना है कि सारे पद भरे जा चुके हैं. अब और पद नहीं हैं. इनका ये भी कहना है कि बाकी पद अनुकंपा नियुक्ति से भरे गए जबकि ये वेटिंग वाले उम्मीदवारों से भरे जाने थे.

ऑफलाइन काउंसलिंग क्यों
उम्मीदवारों की शिकायत ये भी है कि ऑनलाइन की जगह ऑफलाइन काउंसलिंग होने से ट्रांसपेरेंसी खत्म हो गयी है. अगर अब भी नियुक्ति नहीं दी गयी तो 10फरवरी को वेटिंग लिस्ट वाले उम्मीदवारों की वैधता खत्म हो जाएगी.

तीसरी बार धरनावेटिंग लिस्ट वाले इन उम्मीदवारों को अब तक सिर्फ आश्वासन ही मिला है.ये लोग अब तक दो बार पहले धरना दे चुके हैं.इस बार भी अभी तक मंत्री से मुलाकात नहीं हो पाई है.ऐसे में अब उम्मीदवारों को सिर्फ कोर्ट का ही आसरा है.10 फरवरी तक अगर इन्हें नियुक्ति नहीं दी गयी तो फिर इन्हें दोबारा परीक्षा देना होगी.

ये भी पढ़ें-शहडोल अस्पताल में 12 घंटे में 6 नवजात की मौत, प्रशासन पर उठे सवाल

मध्य प्रदेश में इस साल बिजली नहीं होगी महंगी! घाटे पर सरकार लाएगी श्वेत पत्र

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 4:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर