भोपाल के गैस पीड़ित हॉस्पिटल में वार्ड ब्वॉय ने कोरोना पीड़ित महिला से किया दुष्कर्म, दो दिन बाद मौत

भोपाल के गैस मेमोरियल अस्पताल में कोरोना पीड़ित महिला से दुष्कर्म. (सांकेतिक तस्वीर)

भोपाल के गैस मेमोरियल अस्पताल में कोरोना पीड़ित महिला से दुष्कर्म. (सांकेतिक तस्वीर)

Bhopal News: दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने धारा 376 के तहत केस दर्ज कर लिया था, पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. परंतु महिला के मौत होने के बाद भी पुलिस ने यह जानकारी महिला के परिजनों को नहीं दी.

  • Last Updated: May 13, 2021, 7:25 PM IST
  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के गैस पीड़ित अस्पताल में कोरोना पीड़ित महिला से वार्ड ब्वॉय के दुष्कर्म की एक महीने पुरानी घटना पर पुलिस ने धारा 376 के तहत मामला दर्ज कर आरोपी वार्ड ब्वॉय संतोष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. लेकिन दुष्कर्म की घटना की जानकारी मौत होने के बाद भी पुलिस ने महिला के परिजनों को नहीं दी. इस घटना के बाद ही महिला की ज्यादा तबीयत बिगड़ी और उसे वेंटिलेटर सपोर्ट पर ले जाया गया, जहां पर दूसरे दिन उसकी मौत हो गई. इसे लेकर विपक्ष सरकार पर हमलावर हो गई है.

महिला से दुष्कर्म के पहले संतोष ने की थी छेड़छाड़

इससे पहले भी संतोष ने एक महिला के साथ छेड़छाड़ की घटना को अंजाम दिया था. बता दें कि दूसरी महिला के छेड़छाड़ से पहले उसने एक और महिला के साथ छेड़छाड़ की घटना को अंजाम दिया था. वह भी कोरोना पॉजिटिव थी. उसने 4 अप्रैल को अस्पताल के रूम नंबर 4 की एक महिला के साथ छेड़छाड़ की घटना को अंजाम दिया था. वह महिला के जांघ पर इलाज करने के नाम पर हाथ फेर रहा था, जब महिला ने चिल्लाया तो वह वहां रखे मॉनिटर को चेक करने लगा. वहां से चला गया था, जिसके बाद वहां की नर्स को महिला ने जानकारी दी और नर्स ने पुलिस को पुलिस ने छेड़छाड़ के तहत मामला दर्ज निशातपुरा थाने में कर लिया था.

6 अप्रैल को दूसरी महिला को बनाया अपना शिकार
आरोपी संतोष ने 6 अप्रैल की सुबह दूसरी महिला के साथ भी ऐसा ही किया. इलाज करने के नाम पर उसने महिला के साथ ज्यादती की कोशिश की और उसे इलाज और चेकअप करने के नाम पर उसके प्राइवेट अंग से छेड़छाड़ करने लगा और फिर उसे बोला कि बाथरूम में ले जाकर उसका चेकअप करेगा. उसके बाद महिला को बाथरूम में ले जाकर उसने महिला के प्राइवेट अंग से छेड़छाड़ की. महिला ने विरोध किया तो वह उसे फिर बेड पर छोड़ कर चला गया. इसके बाद महिला की तबीयत बिगड़ने लगी और उसे वेंटिलेटर सपोर्ट पर रख दिया गया. इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई.

इस पूरे मामले में महिला ने जानकारी नर्स को भी दी थी. जिसके बाद नर्स ने पुलिस बुलाकर मामला दर्ज कराया था. धारा 376 के तहत पुलिस ने मामला दर्ज किया. महिला की अचानक तबीयत बिगड़ी और उसकी मौत हो गई. हालांकि इस पूरे मामले में पुलिस के आला अधिकारी भी अभी बोलने से बचते नजर आ रहे हैं. वहीं चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने इस पूरे मामले में बयान भी दिया है कि जो तथ्य छूटे उन पर जांच कराई जाएगी.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ घटना को बताया शर्मनाक



मध्यप्रदेश के भोपाल में अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमित महिला के साथ दुष्कर्म व छेड़छाड़ की घटना बेहद शर्मनाक ? बड़ा ही शर्मनाक कि पीड़ित महिला की मौत हो गयी और कार्यवाही की बजाय, अस्पताल प्रबंधन व पुलिस ने इस पूरे मामले को दबाये रखा? इससे पहले भी इस तरह की घटनाएं सामने आ चुकी हैं. क्या बहन- बेटियां अब अस्पताल में भी सुरक्षित नहीं हैं? ऐसी घटनाएं मानवता व इंसानियत पर कलंक और प्रदेश को देशभर में शर्मशार करने वाली हैं. ऐसे तत्वों व दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो और ऐसी घटनाओं को रोकने के लिये सरकार तत्काल आवश्यक कदम उठाये.

मंत्री सारंग ने कहा- मामले की करेंगे जांच

इस पूरे मामले में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि मामला संवेदनशील है और जो भी आरोपी उसे कड़ी सजा दिलाएंगे. उन्होंने कहा है कि पुलिस ने मामले में FIR भी दर्ज की कार्यवाही कर आरोपी को गिरफ्तार भी किया गया है. परंतु परिजनों को क्यों नहीं बताया अभी जांच का विषय है. इस पर हम और मीडिया में छपी खबर के अनुसार जो भी तथ्य बाकी रह गए हैं, उस पर जांच कराएंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज