मध्य प्रदेश को अभी नहीं मिलेगी राहत, पूरे सितंबर होगी भारी से बहुत भारी बारिश

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 11, 2019, 2:57 PM IST
मध्य प्रदेश को अभी नहीं मिलेगी राहत, पूरे सितंबर होगी भारी से बहुत भारी बारिश
मध्य प्रदेश में पूरे सितंबर बारिश जारी रहेगी.

प्रदेश में मौजूदा दौर में सक्रिय तीन सिस्टम के अलावा भी बंगाल की खड़ी के आसपास एक नया सिस्टम बन रहा है.इस सिस्टम की वजह से पूरे सितंबर महीने में बारिश होगी

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (madhya pradesh)भारी बारिश (heavy rain)के कारण त्राहिमाम कर उठा है. पहले मॉनसून (monsoon)आने के लिए टोने-टोटके और पूजा-हवन कर चुके लोग अब दुआ कर रहे हैं कि बस और पानी ना बरसे. लेकिन मौसम बेमुरव्वत बना हुआ है. मौसम विभाग कह रहा है अभी एक महीने तक बारिश मध्य प्रदेश का पीछा नहीं छोड़ेगी.

वैसे मॉनसून खुशहाली लाता है. लेकिन इस बार मध्य प्रदेश में बारिश तो बला बन गयी है. सीधी, शहडोल और सतना जैसे कुछ इलाकों को छोड़कर कमोवेश पूरे प्रदेश में मूसलाधार बारिश ने सबकी नाक में दम कर दी है. हर तरफ पानी से उफनते नदी-नाले और डैम बाढ़ ले आए हैं. जन-जीवन बुरी तरह अस्त-व्यस्त है. सड़क संपर्क टूट गया है. सड़कों पर पानी है और बस्तियां जलमग्न हैं.
आफत अभी बनी रहेगी
मौसम विभाग भी आफत की ख़बर दे रहा है. उसका पूर्वानुमान बता रहा है कि मध्यप्रदेश में अभी पूरे सितंबर महीने तक बारिश होती रहेगी. प्रदेश में तीन सिस्टम सक्रिय हैं. इनकी वजह से अगले तीन दिन भारी बारिश होगी.इसके साथ बंगाल की खाड़ी के आसपास नया सिस्टम बन रहा है जो पूरे प्रदेश में सितंबर में भारी बारिश करेगा.

3 सिस्टम सक्रिय
पहला सिस्टम उत्तरी मध्यप्रदेश में बना है. हवा के कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण ये पानी बरसाएगा.जबकि दूसरा गुजरात से लेकर बंगाल की खाडी तक ट्रफ का बना है.तीसरा सिस्टम राजस्थान से मप्र होते हुए उड़ीसा तक द्रोणिका के रूप में सक्रिय है.इन तीनों सिस्टम के सक्रिय होने की वजह से आने वाले तीन दिन तक प्रदेश के होशंगाबाद, सागर, धार, इंदौर सहित पश्चिम मध्यप्रदेश में भारी से बहुत भारी बारिश होगी.
फसलों को नुक़सान
Loading...

मौसम विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने बताया कि प्रदेश में मौजूदा दौर में सक्रिय तीन सिस्टम के अलावा भी बंगाल की खड़ी के आसपास एक नया सिस्टम बन रहा है.इस सिस्टम की वजह से पूरे सितंबर महीने में बारिश होगी.ये बारिश किसी जिले में कम, तो किसी ज़िले में ज़्यादा होगी.भारी बारिश की वजह से धान की फसल को ज्यादा नुक़सान नहीं होगा लेकिन सोयाबीन सहित दूसरी फसल को सबसे ज्यादा नुक़सान हो रहा है.प्रदेश में अब तक सामान्य से करीब 23 फीसदी बारिश ज्यादा हो चुकी है.ये आंकड़ा आने वाले दिनों में और बढ़ेगा.

ये भी पढ़ें-कमलनाथ सरकार के ख़िलाफ बीजेपी का घंटानाद आंदोलन : नेताओं ने बजाए मंजीरे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 2:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...