MP: इन 2 संभाग को छोड़कर बाकी जिलों में जारी रहेगी गेहूं की खरीदी, सरकार ने दिए निर्देश

बीते साल मध्यप्रदेश ने रिकॉर्ड एक करोड़ 29 लाख मीट्रिक टन गेहूं की ख़रीदी की थी.

बीते साल मध्यप्रदेश ने रिकॉर्ड एक करोड़ 29 लाख मीट्रिक टन गेहूं की ख़रीदी की थी.

विभाग ने इंदौर और उज्जैन संभाग में तय लक्ष्य तक खरीदी पूरी होने के बाद दूसरे संभागों में गेहूं खरीदी को जारी रखने के निर्देश दिए हैं. इस वर्ष भी अभी तक एक करोड़ 8 लाख 173 मीट्रिक टन गेहूं किसानों से खरीदा जा चुका है.

  • Share this:

भोपाल. चक्रवाती तूफान ताऊते के कारण प्रदेश में हो रही बारिश का असर गेहूं खरीदी पर भी पड़ा है. कई जिलों में झमाझम बारिश होने के कारण गेहूं की खरीदी नहीं हो पाई है. कई जगह पर गेहूं गीला होने और गीला गेहूं की खरीदी नहीं होने को लेकर अब किसान परेशान हैं. तो वहीं राज्य सरकार ने आज कलेक्टरों को निर्देश जारी कर गेहूं की खरीदी के निर्देश दिए हैं. खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि किसानों को इस बात का भरोसा दिलाएं कि उनका पूरा गेहूं खरीदा जाएगा. विभाग ने निर्देश दिए हैं कि 17 से 19 मई तक जिन किसानों को गेहूं खरीदी के लिए मैसेज भेजे गए थे और उनकी गेहूं खरीदी नहीं हो पाई है. उन्हें दोबारा SMS भेजकर गेहूं खरीदी की जाए. साथ ही किसानों को इस बात का भी भरोसा दिलाया जाए कि फिलहाल गेहूं की खरीदी को जारी रखा जाएगा. मौसम विभाग के मुताबिक जारी अनुमान के तहत मौसम खुला होने पर किसानों से गेहूं खरीदी की जाएगी.

विभाग ने इंदौर और उज्जैन संभाग में तय लक्ष्य तक खरीदी पूरी होने के बाद दूसरे संभागों में गेहूं खरीदी को जारी रखने के निर्देश दिए हैं. दरअसल. बीते साल मध्यप्रदेश ने रिकॉर्ड एक करोड़ 29 लाख मीट्रिक टन गेहूं की ख़रीदी करके देश में प्रथम स्थान प्राप्त किया था. इस वर्ष भी अभी तक एक करोड़ 8 लाख 173 मीट्रिक टन गेहूं किसानों से खरीदा जा चुका है. इससे किसानों के खाते में 21 हजार 334 करोड़ 32 लाख रुपये किसानों के खाते में जाएंगे. अभी तक एक हजार 522 करोड़ से भी ज्यादा राशि किसानों के खाते में डाली जा चुकी है. प्रदेश में 4660 खरीदी केंद्र स्थापित किये गये हैं.

पूर्व सीएम कमलनाथ ने उठाया था मुद्दा

गेहूं खरीदी के मामले को लेकर आज सुबह पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट किया था और इस बात को लेकर सरकार से मांग की थी कि किसानों का पूरा गेहूं खरीदा जाए. कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा था कि खरीदी केंद्रों पर गेहूं बेचने के लिए लाइन में लगे किसानों का गेहूं गीला होने और उसकी खरीदी नहीं होने को लेकर शिकायतें मिल रही हैं. कमलनाथ ने खुले में रखे गेहूं का समय पर परिवहन नहीं होने को लेकर भी सवाल उठाया था.
मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद मुख्यमंत्री शिवराज के निर्देश के बाद खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग में गेहूं खरीदी को फिलहाल जारी रखने का आदेश जारी किया है. पहले जारी आदेश के मुताबिक प्रदेश में 25 मई तक गेहूं की खरीदी करना तय किया गया था लेकिन अब विभाग के आदेश के बाद गेहूं की खरीदी 25 मई के बाद भी जारी रहेगी. जो किसानों के लिए राहत भरी खबर हो सकती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज