लाइव टीवी

महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान  के साथ धोख़ाधड़ी ! कलेक्टर ने दिए जांच का आदेश
Bhopal News in Hindi

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 22, 2020, 10:53 AM IST
महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान  के साथ धोख़ाधड़ी ! कलेक्टर ने दिए जांच का आदेश
महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान के साथ धोखाधड़ी

कलेक्टर (collector) ने मामले की जांच उपायुक्त सहकारिता विनोद सिंह को सौंपी है.जनसुनवाई में कलेक्टर को प्लॉट के नाम पर धोखाधड़ी की 144 शिकायतें (Complaints) मिली हैं

  • Share this:
भोपाल.महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष (Women Congress state president ) मांडवी चौहान (Mandvi Chauhan) के साथ धोखाधड़ी ( fraud) का मामला सामने आया है.खुद मांडवी चौहान ने भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े से इसकी शिकायत की है.कलेक्टर(COLLECTOR)  ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच (Inquiry) का आदेश दिया है.

मांडवी चौहान ने कलेक्टर से लिखित शिकायत की है. इसमें लिखा है कि नए शहर में स्थित गौरी हाउसिंग सोसायटी के तत्कालीन अध्यक्ष अशोक सिंह ने 1989 में प्लॉट के लिए पैसे जमा कराए थे.लेकिन प्लॉट अब तक नहीं मिला.कलेक्टर ने मामले की जांच उपायुक्त सहकारिता विनोद सिंह को सौंपी है.मांडवी चौहान का आरोप है कि प्लॉट के लिए 25 हजार रुपए जमा किए थे. लेकिन तत्कालीन अध्यक्ष अशोक सिंह ने वरीयता सूची का पालन नहीं किया.

आरोप का खंडन
हालांकि, गौरी हाउसिंग सोसायटी ने मांडवी चौहान के आरोपों को गलत बताया है.प्रदेश में माफिया के खिलाफ अभियान चल रहा है.इसी अभियान के तहत भोपाल कलेक्टर ने सोसायटी से जुड़ी शिकायतों के निपटारे के लिए अफसरों की विशेष टीम बनाई है.ऐसी तमाम शिकायत की जांच यही टीम कर रही है.



पूर्व सीएम के रिश्तेदारों के खिलाफ शिकायत
कलेक्टर की जनसुनवाई में चूनाभट्टी में रहने वाले अजय सक्सेना ने पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान के रिश्तेदारों पर गंभीर आरोप लगाए हैं.कलेक्टर तरुण पिथोड़े से शिकायत करते हुए अजय सक्सेना ने बताया कि सोसायटी में एक लाख 31 हजार रुपए जमा करने के बाद भी अभी तक प्लॉट नहीं मिला.आरोप है कि शिवराज सिंह चौहान के रिश्तेदार रोहित चौहान और रोहित चौहान की पत्नी को उनका प्लॉट आवंटित कर दिया गया.जबकि वह 2000 में ही विकास शुल्क समेत प्लॉट की पूरी राशि जमा कर चुके हैं. सक्सेना ने शिकायत में बताया कि कोर्ट ने प्लॉट देने के आदेश दिए थे, लेकिन सहकारिता विभाग के अफसरों की मिली भगत की वजह से अब तक प्लॉट आवंटित नहीं हो सका.पिछले 9 साल से वह लगातार शिकायत कर रहे हैं, लेकिन कहीं भी सुनवाई नहीं हो रही है.

प्लॉट के नाम पर धोखाधड़ी की 144 शिकायत
जनसुनवाई में कलेक्टर को प्लॉट के नाम पर धोखाधड़ी की 144 शिकायतें मिली हैं.सभी शिकायतों में जांच के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए हैं.एक शिकायत सर्वोदय हाउसिंग सोसायटी के खिलाफ हुई है.सोसायटी में किशोरी लाल कोटिया ने 2001 में एक हजार वर्गफीट के प्लॉट की रजिस्ट्री कराई थी, लेकिन प्लॉट पर कब्जा अब तक नहीं दिया गया.किशोरी लाल कोटिया पिछले दस साल से इंसाफ के इंतज़ार में हैं.

ये भी पढ़ें-मध्य प्रदेश में अब सरकारी सेवाओं की होम डिलिवरी, इंदौर से होगी शुरुआत

राजगढ़ थप्पड़ कांड : कलेक्टर के खिलाफ आज FIR दर्ज कराएंगे BJP नेता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 10:53 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर