18+ को अस्पतालों में नहीं लगेगी कोरोना वैक्सीन, जानिए क्या है शिवराज का वैक्सीनेशन प्लान

प्रदेश की शिवराज सरकार ने युवाओं के वैक्सीनेशन के लिए अलग प्लान बनाया है. (फाइल फोटो)

प्रदेश की शिवराज सरकार ने युवाओं के वैक्सीनेशन के लिए अलग प्लान बनाया है. (फाइल फोटो)

MP Big News: मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने 18+ लोगों के लिए नया वैक्सीनेशन प्लान बनाया है. इन लोगों को अस्पतालों में वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी. इनके लिए अलग से कोविड सेंटर्स बनाए जाएंगे.

  • Last Updated: April 30, 2021, 12:15 PM IST
  • Share this:
भोपाल. 18 से ज्यादा की उम्र के लोगों को लेकर प्रदेश सरकार ने एक और बड़ा फैसला किया है. अब इन लोगों का वैक्सीनेशन अस्पतालों में नहीं किया जाएगा, बल्कि इसके लिए अलग से वैक्सीन सेंटर्स बनाए जाएंगे. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसके निर्देश भी दे दिए हैं.

गौरतलब है कि प्रदेश में कोरोना वैक्सीन के 28 अप्रैल तक 80 लाख 66 हजार 980 डोज़ लगाए जा चुके हैं. इनमें से पहले डोज में 70 लाख 19 हज़ार 763 और दूसरे डोज में 10 लाख 47 हज़ार 217  इंजेक्शन लगाए गए हैं. कोरोना वैक्सीन के स्वास्थ्य कर्मियों को 753333, फ्रंट लाइन वर्कर्स को 654268, 45 वर्ष से 59 वर्ष के बीच के व्यक्तियों को 3326172 और 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों को 3333207 डोज लगाए जा चुके हैं.

वैक्सीनेशन के तीसरे चरण के लिए तारीख तय नहीं

मध्य प्रदेश में कोरोना वैक्सीन का तीसरा चरण एक मई से शुरू नहीं हो सकेगा. इस चरण के अब 3 मई के बाद ही शुरू होने की संभावना है. दअरसल पूरे देश के साथ मध्य प्रदेश में 1 मई से 18 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्तियों का कोरोना वैक्सीनेशन अभियान शुरू किया जाना था लेकिन वैक्सीन निर्माता कंपनियों से वैक्सीन नहीं मिलने की वजह से यह अभियान समय पर शुरू नहीं हो सकेगा. प्रदेश में 3 मई को वैक्सीन के डोसेज मिलने की संभावना है, उसके बाद ही वैक्सीनेशन का काम शुरू किया जा सकेगा. हालांकि 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों के वैक्सीनेशन का काम फिलहाल जारी रहेगा.
अंतरराज्यीय सीमाएं होंगी सील

मध्य प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू के बाद अब सरकार अंतरराज्यीय सीमाओं को भी सील करेगी. कोरोना की इस चेन को तोड़ने के लिए सरकार पहले से ज्यादा सख्ती बरतने जा रही है. कोरोना कर्फ्यू 10 मई तक बढ़ाये जाने पर भी विचार किया जा रहा है. गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना संक्रमण  को रोकने के लिये सख्ती से इसकी चेन को तोड़ना जरूरी है.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की 16 जिलों में कोरोना नियंत्रण के लिये किये जा रहे उपायों की समीक्षा के दौरान अंतर्राज्यीय सीमाओं को सील करने पर भी विचार किया गया. मिश्रा ने बताया कि समीक्षा के दौरान सभी ने कोरोना की चेन को तोड़ने के लिये सख्ती पर जोर दिया. उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश की सीमाओं पर बस परिवहन सेवाओं को बंद करने का निर्णय लिया जाकर आदेश जारी कर दिये गये हैं. राज्यों की सीमाओं पर आवागमन से संक्रमण को रोकने के उपाय प्रभावित हो रहे हैं. आवागमन के कारण संक्रमण की चेन को तोड़ने की कार्यवाही भी प्रभावित हो रही है. इसलिये अंतर्राज्यीय सीमाओं को सील करने पर विचार किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज