शिवराज सरकार ने दी स्वास्थ्य सेवाओं की गारंटी, अब जनता को मिलेगा मुफ्त इलाज

मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता को एक और सौगात दे दी है। मध्यप्रदेश के सरकारी अस्पतालों को अब जरूरी 18 स्वास्थ्य सेवाएं देना अनिवार्य हो गया है। राज्य सरकार ने बुधवार से 18 इन स्वास्थ्य सेवाओं को स्वास्थ्य गारंटी योजना में शामिल कर लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने एक कार्यक्रम में स्वास्थ्य सेवा गारंटी योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत आमजन को सरकारी अस्पतालों से 18 प्रकार की स्वास्थ्य सेवाएं मिलने की गारंटी रहेगी।

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 30, 2014, 8:46 AM IST
शिवराज सरकार ने दी स्वास्थ्य सेवाओं की गारंटी, अब जनता को मिलेगा मुफ्त इलाज
मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता को एक और सौगात दे दी है। मध्यप्रदेश के सरकारी अस्पतालों को अब जरूरी 18 स्वास्थ्य सेवाएं देना अनिवार्य हो गया है। राज्य सरकार ने बुधवार से 18 इन स्वास्थ्य सेवाओं को स्वास्थ्य गारंटी योजना में शामिल कर लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने एक कार्यक्रम में स्वास्थ्य सेवा गारंटी योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत आमजन को सरकारी अस्पतालों से 18 प्रकार की स्वास्थ्य सेवाएं मिलने की गारंटी रहेगी।
News18india.com
ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 30, 2014, 8:46 AM IST
मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता को एक और सौगात दे दी है। मध्यप्रदेश के सरकारी अस्पतालों को अब जरूरी 18 स्वास्थ्य सेवाएं देना अनिवार्य हो गया है। राज्य सरकार ने बुधवार से 18 इन स्वास्थ्य सेवाओं को स्वास्थ्य गारंटी योजना में शामिल कर लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने एक कार्यक्रम में स्वास्थ्य सेवा गारंटी योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत आमजन को सरकारी अस्पतालों से 18 प्रकार की स्वास्थ्य सेवाएं मिलने की गारंटी रहेगी।

इस योजना का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 18 प्रकार की स्वास्थ्य सेवाओं की गारंटी देना पीड़ित मानवता की सबसे बड़ी सेवा होगी। स्वास्थ्य विभाग के अमले पर यह जवाबदारी है, इसमें किसी तरह की लापरवाही नहीं हो।



जिन 18 सेवाओं को स्वास्थ्य सेवा गारंटी योजना के तहत शामिल किया जा रहा है उनमें मुफ्त जांच, मुफ्त उपचार, दवा का वितरण और भोजन, जननी सुरक्षा कार्यक्रम, गंभीर कुपोषित बच्चों के लिए पुनर्वास सेवा, शिशुओं का टीकाकरण, किशोर बालक-बालिकाओं का स्वास्‍थ्‍य परीक्षण, किशोर बालिकाओं को मुफ्त में आयरन की गोलियां देना, गर्भवती महिलाओं के लिए जननी एक्सप्रेस और आपातकालीन चिकित्सा सेवा 108, टीबी रोगियों को मुफ्त उपचार देना, वेक्टरजनित रोगों की रोकथाम करना, कुष्ठ रोगियों का मुफ्त इलाज, नेत्र रोगों की जांच और उपचार, राज्य बीमारी सहायता निधि से निर्धारित समय सीमा में उपचार देना, विकलांगता प्रमाण-पत्र समय पर जारी करना, दीनदयाल अंत्योदय उपचार योजना के तहत उपचार देना, मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना के तहत उपचार करना और निजी अस्पतालों की स्थापना और पंजीकरण समय सीमा में करना शामिल है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने स्वास्थ्य सेवाओं की गारंटी देने का संकल्प लेकर सेवा का नया इतिहास रचा है। इसकी अनुगूंज पूरे देश में होगी। सबसे बड़ा सुख निरोगी काया है। रोगों की रोकथाम के निरंतर प्रयास हो रहे हैं। इस दिशा में पेंटावलेंट वेक्सीन सुखद पहल है। तीन टीके कई बीमारियों से बचाव करेंगे। आम नागरिक को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सेवा मिलें इसके निरंतर प्रयास हो रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा कि नि:शुल्क भोजन, दवा, जांच, आकस्मिक चिकित्सा और परिवहन की सेवाएं दी जा रही हैं। इन प्रयासों के साथ ही चिकित्सक के व्यवहार का भी बहुत महत्व है। आवश्यकता संवेदनशील व्यवहार और धैर्य की है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाएं जो सबसे पीछे और दूर हैं, उन तक प्रभावी ढंग से पहुंचे यह जरूरी है। इसके लिए मुख्यालय से ग्रामीण स्तर तक की इकाइयों को समर्पण के साथ कार्य करना होगा तभी विकेंद्रित स्वास्थ्य सेवाओं का संकल्प पूरा होगा।

परिवार-कल्याण एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि प्रदेश को स्वास्थ्य सेवाओं में देश को अव्वल राज्य बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग संकल्पित है। नागरिकों को 18 स्वास्थ्य सेवाएं देने का पक्का वादा है। राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं की प्रधानमंत्री ने भी सराहना की है।
Loading...

उन्होंने बताया कि प्रदेश के चिकित्सालयों में प्रतिदिन 25 हजार मरीजों को नि:शुल्क नाश्ता, भोजन मिल रहा है। पचास हजार से अधिक लोगों की 75 तरह की जांच नि:शुल्क हो रही हैं। साढ़े चार लाख से अधिक रोगियों को नि:शुल्क औषधि का वितरण किया जा रहा है।

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...