सागर में युवक को जिंदा जलाने की हकीकत जांचने BJP ने भेजा दल, सरकार पर खड़े किए सवाल

सागर में युवक को जिंदा जलाने की घटना पर बिफरी भाजपा.

सागर में अनुसूचित जाति के एक युवक को जिंदा जलाए जाने के मामले में सियासत जारी है. भारतीय जनता पार्टी ने पूर्व मंत्री लाल सिंह आर्य (Lal Singh Arya) के नेतृत्व में 5 सदस्यीय जांच दल से पूरे मामले की रिपोर्ट तैयार कराई है.

  • Share this:
भोपाल. सागर में अनुसूचित जाति के एक युवक को जिंदा जलाए जाने के मामले में सियासत जारी है. बीजेपी ने पूर्व मंत्री लाल सिंह आर्य (Lal Singh Arya) के नेतृत्व में 5 सदस्यीय एक जांच दल सागर भेजकर पूरे मामले की रिपोर्ट तैयार कराई है. मंगलवार को आर्य ने भोपाल में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरे मामले में प्रदेश सरकार पर सवाल उठाए हैं. बीजेपी (BJP) का आरोप है कि सागर के स्थानीय प्रशासन ने जांच दल को पीड़ित युवक के परिजनों से मुलाकात नहीं करने दी. जबकि बीजेपी के जांच दल की रिपोर्ट के मुताबिक अनुसूचित जाति वर्ग के युवक धनप्रसाद अहिरवार के घर पर एक धर्म विशेष के 20-25 लोगों ने हमला बोला था, बावजूद इसके पुलिस ने केवल 5 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. बीजेपी के आरोपों के मुताबिक पुलिस सरकार के दबाव में एक वर्ग विशेष के आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रही है. साथ ही उन्‍होंने ने मांग की है कि पीड़ित युवक को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में रेफर किया जाए और सहायता राशि एक लाख से बढ़ाकर 10 लाख रुपए की जाए. आपको बता दें कि 14 जनवरी को सागर में अनुसूचित जाति वर्ग के युवक धनप्रसाद अहिरवार को कुछ लोगों ने केरोसिन डालकर जिंदा जला दिया था. पीड़ित युवक को गंभीर हालत में भोपाल के हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कैबिनेट मंत्री हर्ष यादव कर चुके हैं मुलाकात
सोमवार को कैबिनेट मंत्री हर्ष यादव और पूर्व मंत्री सुरेंद्र चौधरी ने पीड़ित युवक धनप्रसाद अहिरवार से हमीदिया अस्पताल में जाकर मुलाकात की. इस दौरान मंत्री हर्ष यादव ने पीड़ित के परिजनों से पूरी घटना के बारे में जानकारी लेने के साथ ही डॉक्टरों को बेहतर इलाज के निर्देश दिए. मंत्री की ओर से पीड़ित युवक के इलाज के लिए परिजनों को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता भी मुहैया कराई गई है. यादव ने बताया कि घटना के बारे में सीएम कमलनाथ को भी जानकारी दी गई है. आपको बता दें कि दो दिन पहले ही नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सागर की इस घटना को लेकर पुलिस और प्रशासन पर सवाल खड़े किए थे. गोपाल भार्गव ने आरोप लगाते हुए कहा था कि सागर में अनुसूचित जाति के एक युवक को जिंदा जला दिया गया लेकिन पुलिस आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रही है, क्योंकि आरोपी एक धर्म विशेष से जुड़े हुए हैं. गोपाल भार्गव ने घटना के विरोध में सागर में धरना प्रदर्शन का ऐलान भी किया है.

क्या है मामला ?
दरअसल बीती 14 जनवरी को सागर में अनुसूचित जाति वर्ग के एक युवक धनप्रसाद अहिरवार को विवाद के बाद कुछ लोगों ने केरोसिन डालकर जिंदा जला दिया था. पुलिस ने इस मामले में 3 आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. गोपाल भार्गव का आरोप है कि आरोपियों की संख्या ज्‍यादा है और वो एक धर्म विशेष से जुड़े हुए हैं, लेकिन पुलिस इन्हें बचाने की कोशिश कर रही है. विवाद की शुरुआत बच्चों के बीच खेल-खेल में हुई थी. दोनों पक्षों के बीच इससे पहले भी विवाद हो चुका है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.