लाइव टीवी

यादें: डॉक्टर बेटी ने देखी थी नब्ज, तब सांसें तोड़ चुके थे विधायक पिता

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: November 22, 2016, 2:44 PM IST
यादें: डॉक्टर बेटी ने देखी थी नब्ज, तब सांसें तोड़ चुके थे विधायक पिता
मध्यप्रदेश के नेपानगर विधानसभा सीट पर उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी मंजू दादू ने जीत हासिल कर ली है. ये सीट मंजू दादू के पिता और नेपानगर क्षेत्र के पूर्व विधायक राजेंद्र दादू के निधन के बाद खाली हुई थी.

मध्यप्रदेश के नेपानगर विधानसभा सीट पर उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी मंजू दादू ने जीत हासिल कर ली है. ये सीट मंजू दादू के पिता और नेपानगर क्षेत्र के पूर्व विधायक राजेंद्र दादू के निधन के बाद खाली हुई थी.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के नेपानगर विधानसभा सीट पर उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी मंजू दादू ने जीत हासिल कर ली है. ये सीट मंजू दादू के पिता और नेपानगर क्षेत्र के पूर्व विधायक राजेंद्र दादू के निधन के बाद खाली हुई थी.

आज भले ही नेपानगर में दादू परिवार अपनी छोटी बेटी की जीत का जश्न मना रहा हो लेकिन राजेंद्र दादू की दर्दनाक मौत के समय पूरे इलाके में सिर्फ मातम पसरा हुआ था.

नेपानगर उपचुनावः भाजपा की मंजू दादू 42 हजार से ज्यादा वोटों से जीतीं


स्व. राजेंद्र दादू की बड़ी बेटी अंजलि के जो हाथ अब बहन मंजू को चुनाव में जीत दिलाने के लिए जनता का अभिवादन कर रहे हैं, वही हाथ दर्दनाक हादसे के बाद अस्पताल पहुंचे अपने पिता की नब्ज टटोल कर उनके जिंदा होने की उम्मीद ढूंढ रहे थे.

पिता को देखते ही निकली चीख और फिर टूट गई उम्मीद

भाजपा विधायक दल की बैठक में शामिल होने के लिए राजेंद्र दादू 9 जून 2016 की शाम को भोपाल आ रहे थे. इस दौरान सीहोर जिले के शेरपुर में उनकी कार हादसे का शिकार हो गई. करीब 140 किलोमीटर की रफ्तार से चल रही कार अचानक अनियंत्रित होकर पलट गई.

इस हादसे के तुरंत बाद राजेंद्र दादू को सीहोर के अस्पताल और फिर वहां से भोपाल के चिरायु अस्पताल लाया गया था. चिरायु अस्पताल में डॉक्टरों की एक टीम को पहले ही इमरजेंसी केस की जानकारी देकर अलर्ट पर रखा गया था. उस दौरान राजेंद्र दादू की बेटी, डॉक्टर अंजलि भी ड्यूटी पर मौजूद थी.एम्बुलेंस से जैसे ही डॉक्टरों की एक टीम राजेंद्र दादू को लेकर चिरायु अस्पताल पहुंची तो पिता को जख्मी हालत में देखकर बेटी अंजलि चीख पड़ी. उन्होंने अपने पिता की नब्ज टटोली और फिर वह एक कोने में जाकर बैठ गई. इस दौरान उनकी आंखों में न तो आंसू निकले और न ही उन्होंने किसी से बात की.

काफी कोशिशों के बाद भी राजेंद्र दादू को बचाया नहीं जा सका. हादसे में उनके पीए राजेंद्र अत्रे और ड्राइवर पवन की भी मौत हो गई थी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुरहानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2016, 2:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर