लाइव टीवी

Teachers Day: नेत्रहीन शिक्षक बच्चों में जला रहे शिक्षा की ज्योति
Burhanpur News in Hindi


Updated: September 5, 2015, 6:52 PM IST
Teachers Day: नेत्रहीन शिक्षक बच्चों में जला रहे शिक्षा की ज्योति
बुरहानपुर की ग्राम पंचायत हसनपुरा की शासकीय प्राथमिक शाला में सात साल से दो नेत्रहीन शिक्षक आदिवासी बच्चों में शिक्षा की ज्योति जला रहे हैं. यह शाला जिले की एक मात्र शाला है जहां दो दृष्टिबाधित शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे हैं.

बुरहानपुर की ग्राम पंचायत हसनपुरा की शासकीय प्राथमिक शाला में सात साल से दो नेत्रहीन शिक्षक आदिवासी बच्चों में शिक्षा की ज्योति जला रहे हैं. यह शाला जिले की एक मात्र शाला है जहां दो दृष्टिबाधित शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे हैं.

  • Last Updated: September 5, 2015, 6:52 PM IST
  • Share this:
बुरहानपुर की ग्राम पंचायत हसनपुरा की शासकीय प्राथमिक शाला में सात साल से दो नेत्रहीन शिक्षक आदिवासी बच्चों में शिक्षा की ज्योति जला रहे हैं. यह शाला जिले की एक मात्र शाला है जहां दो दृष्टिबाधित शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे हैं.

बुरहानपुर जिला मुख्यालय से 23 किलोमीटर दूर इंदौर इच्छापुरा स्टेट हाईवे के पास स्थित हसनपुरा गांव की जनपद प्राथमिक शाला जिले की अन्य शालाओं से अलग है. इस शाला में दो दृष्टिबाधित शिक्षक राजेंद्र चौहान और कृणाल श्रीमाली बीते सात साल से बच्चों में शिक्षा के प्रकाश को रोशन कर रहे हैं.

यह दोनों ही शिक्षक रोजाना 25 किलोमीटर दूर का रास्ता तय करके समय पर स्कूल पहुंच जाते है. दोनों नेत्रहीन शिक्षक ज्यादातर मौखिक रूप से और वैज्ञानिक पध्दति से बच्चों को शिक्षा देते हैं.



वहीं शाला प्रमुख वसंता निंभोरे के अनुसार ये नेत्रहीन शिक्षक सामान्य शिक्षकों से अच्छी टीचिंग का काम कर रहे हैं. जिसका सबूत इन शिक्षकों की क्लासेस और उनमें पढ़ने वाले बच्चों का बेहतरीन रिजल्ट है.



इन दोनों होनहार दृष्टिबाधित शिक्षकों द्वारा गांव के बच्चों को अच्छे ढंग से शिक्षा दिए जाने से गांव के लोग भी काफी खूश है और इसलिए वो भी इन शिक्षकों की तारीफ करते नहीं थकते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुरहानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2015, 6:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading