लाइव टीवी

परीक्षा के डर से घर से भाग निकलीं नाबालिग लड़कियां

Sharik Akhtar | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 13, 2016, 12:10 PM IST
परीक्षा के डर से घर से भाग निकलीं नाबालिग लड़कियां
आज का दौर बेटे के बजाए बेटियों का हैं. बेटियां भी अब अपने परिवार का नाम रोशन कर रही है, लेकिन एक बेटी एक ऐसी करतूत की है, जिसने पूरे परिवार को समाज के सामने शर्मसार होने पर मजबूर कर दिया. इस बेटी ने अपने पिता पर ऐसा आरोप लगाया जिसे सुनकर हर कोई कांप उठा, लेकिन सच्चाई से परदा हटा तो अब बेटी ही 'खलनायक' बन गई है.

मध्यप्रदेश के बुहरानपुर जिले के एक गांव तीन नाबालिग छात्राएं परीक्षा के डर से भाग निकलीं.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के बुहरानपुर जिले के एक गांव तीन नाबालिग छात्राएं परीक्षा के डर से भाग निकलीं. हालांकि, तीनों छात्राओं को पुलिस ने इंदौर के सरबटे बस स्टैंड से ढूंढ़ निकाला.

दरअसल, पूरा मामला बुहरानपुर जिले के लालबाग थाना इलाके के बिरोदा गांव का है. यहां रहने वाली तीन नाबालिग छात्राएं निशा, संगीता और पूजा शासकीय स्कूल में सातवीं और आठवीं की छात्राएं हैं, जो परीक्षा देने के डर से अपने गांव से शनिवार सुबह भाग गईं.

परिजनों को इसका पता तब चला जब छात्राएं घर लौटकर नहीं पहुंचीं. तीनों के परिजनों ने लापता बेटियों की कई जगह खोजबीन की. जब कोई सुराग नहीं लगा, तो स्थानीय थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई. जहां से इस जानकारी आसपास के जिलों की पुलिस को दी गई.

जिसके बाद इंदौर जिले की ग्वालटाली थाना पुलिस ने सरबटे बस स्टैण्ड पर इन छात्राओं को ढूंढ़ निकाला. तीनों बुरहानपुर से बस में बैठकर इंदौर आ गईं थीं. पुलिस ने तीनों लड़कियों का एमवाय अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद महिला पुलिस थाने के हवाले कर दिया है.

वहीं, बच्चियों के परिजन सूचना मिलने पर उन्हें लेने इंदौर आ गए, जिन्हें कागजी खानापूर्ति बच्चियों की सुपुर्दगी मिल गई.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुरहानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 13, 2016, 12:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर