लाइव टीवी

एमपी में रिश्वतखोर क्लर्क को 4 साल का सश्रम कारावास, 10 हजार अर्थदंड

Pradesh18
Updated: May 11, 2016, 8:11 PM IST
एमपी में रिश्वतखोर क्लर्क को 4 साल का सश्रम कारावास, 10 हजार अर्थदंड
मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले की अदालत ने रिश्वत लेने के मामले में क्लर्क को दोषी करार देते हुए चार साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है.

मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले की अदालत ने रिश्वत लेने के मामले में क्लर्क को दोषी करार देते हुए चार साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है.

  • Pradesh18
  • Last Updated: May 11, 2016, 8:11 PM IST
  • Share this:
मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले की अदालत ने रिश्वत लेने के मामले में क्लर्क को दोषी करार देते हुए चार साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है. वहीं, 10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है.

दरअसल, पूरा मामला 19 सितंबर 2014 का है. जब जिले के ठेमी थाना इलाके में कापखेड़ा-छीतापार गांव के के सोबरन सिंह लोधी ने आदिम जाति कल्याण विभाग में सब्सिडी के लिए विभाग को आवेदन दिया था. जहां विभाग के सहायक ग्रेड-3 कर्मचारी खारक सिंह विश्वकर्मा ने हितग्राही सोबरन से सब्सिडी का आवेदन आगे बढ़ाने के एवज में 10 हजार रुपए की मांग की थी.

उस दौरान फरियादी सोबरन सिंह की शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने खारक सिंह विश्वकर्मा को 5 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों धर-दबोचा और उसके खिलाफ धारा 7, 13 (1) डी सहपठित धारा 13 (2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया.

विवेचना के बाद मंगलवार को अपर सत्र और लोकायुक्त मामलों के विशेष न्यायाधीश ने आरोप सिद्ध होने पर उसे 4 वर्ष का सश्रम कारावास और 10 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुरहानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 10, 2016, 8:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...