लाइव टीवी

अक्षय तृतीया पर बाल विवाह रोकने के लिए उड़नदस्ते का गठन


Updated: May 7, 2016, 9:57 PM IST
अक्षय तृतीया पर बाल विवाह रोकने के लिए उड़नदस्ते का गठन
मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले में कलेक्टर जे.पी.आईरीन सिंथिया के निर्देशानुसार जिले में बाल विवाह की रोकथाम के लिए उड़न दस्ता दल गठित किया गया है.

मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले में कलेक्टर जे.पी.आईरीन सिंथिया के निर्देशानुसार जिले में बाल विवाह की रोकथाम के लिए उड़न दस्ता दल गठित किया गया है.

  • Last Updated: May 7, 2016, 9:57 PM IST
  • Share this:
मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले में कलेक्टर जे.पी.आईरीन सिंथिया के निर्देशानुसार जिले में बाल विवाह की रोकथाम के लिए उड़न दस्ता दल गठित किया गया है.

जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी रतनसिंग गुंडिया ने बताया कि अक्षय तृतीया पर होने वाले सामूहिक विवाह सम्मेलनों में बाल विवाह की संभावना को दृष्टिगत रखते हुए उड़न दस्ता दल का गठन किया गया है. यह दल जिले में भ्रमण करेगा तथा बाल विवाह की शिकायत मिलने पर त्वरित कार्रवाई करेगा.

दल में विकासखण्ड महिला सशक्तिकरण अधिकारी राजू बिरथरे, संरक्षण अधिकारी आशु पटेल, संरक्षण अधिकारी विष्णुकांत दुबे एवं विशेष किशोर पुलिस इकाई से निरीक्षक आशा सोलंकी, सहायक उपनिरीक्षक मनीष मालवीय शामिल है.

बाल विवाह:  कितनी सजा और जुर्माना लगेगा

बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम-2006 के अनुसार बाल विवाह करने वाले, कराने वाले एवं सम्मिलित होने वाले पर एक लाख रूपये का जुर्माना या तीन वर्ष की सजा का प्रावधान है.

बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम-2006 के अनुसार बालक की उम्र 21 वर्ष या उससे अधिक व बालिका की उम्र 18 वर्ष या उससे अधिक होना चाहिये. इससे कम उम्र में विवाह किया जाना बाल विवाह की श्रेणी में आता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुरहानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 7, 2016, 9:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...