Home /News /madhya-pradesh /

Chhatarpur : पिता की मौत के बाद बेटी की नहीं हो पा रही थी शादी, छतरपुर पुलिस ने बाबुल बनकर किया विदा

Chhatarpur : पिता की मौत के बाद बेटी की नहीं हो पा रही थी शादी, छतरपुर पुलिस ने बाबुल बनकर किया विदा

छतरपुर के बंसिया थाना प्रभारी राजकुमार लोटिया ने शादी के सारे इंतज़ाम किये.

छतरपुर के बंसिया थाना प्रभारी राजकुमार लोटिया ने शादी के सारे इंतज़ाम किये.

Chhatarpur : केवट परिवार पुलिस का धन्यवाद अदा कर रहा है. उसके लिए तो पुलिस साक्षात भगवान बन गयी. थाना प्रभारी लटोरिया का कहना है उन्हें लगा कि पिता न होने के कारण एक बेटी की शादी नहीं हो पा रही है. इसलिए वो आगे आए और उनका साथ थाने के पुलिसकर्मियों ने भी दिया.

अधिक पढ़ें ...
छतरपुर. छतरपुर (Chhatarpur) पुलिस ने देशभक्ति जनसेवा को सच कर दिखाया. उसने एक पिता का फर्ज निभाया और बिन बाप की बेटी के हाथ पीले कर ससुराल विदा किया. इस बेटी की शादी (Marriage) इसलिए नहीं हो पा रही थी कि शादी से ऐन पहले मिट्टी में दबकर पिता की मौत हो गयी थी.

ये मामला बंसिया थाना क्षेत्र के मन्नी के पुरवा गांव का है. यहां रहने वाले रजवा केवट की पत्थर में दबने से मौत हो गई थी. उसी समय उसकी बेटी गोलू केवट की शादी थी. लेकिन पिता की मौत के बाद गरीब परिवार शादी नहीं कर सका.

पिता की मौत का गम
पिता की मौत पत्थर से दबने से हुई थी, इसलिए पुलिस केस बन गया था. इस मामले में बयान लेने बंसीया थाना प्रभारी राजकुमार लटोरिया अपने पुलिसकर्मियों के साथ मृतक रजवा केवट के घर पहुंचे. तब उन्हें पता ये कहानी पता चली कि पिता की मौत हो जाने के कारण परिवार इस बिटिया की शादी नहीं कर पा रहा है. बस उसी वक्त राजकुमार लटोरिया ने गोलू केवट की शादी कराने का संकल्प ले लिया.

थाना प्रभारी पिता के रोल में
गोलू की शादी पूरे धूमधाम और रीति-रिवाजों के साथ की गयी. थाना प्रभारी राजकुमार लटोरिया ने पिता की भूमिका निभायी. लड़की के जेवर-गहने-कपड़ों से लेकर मंडप-मिठाई और बारातियों के स्वागत तक का सारा इंतज़ाम उन्होंने किया. एक पिता की तरह ही उन्होंने शादी में सारी रस्में निभाईं और सामान से लेकर बारातियों के खाने-पीने तक की व्यवस्था छतरपुर पुलिस ने की.

बेटी ने गुल्लक के पैसे भी दिये
थाना प्रभारी राजकुमार लटोरिया की 12 साल की बेटी प्रिया है. इस शादी के लिए उसने भी अपनी गुल्लक में जमा पैसे दे दिये. शादी में बाराती तो थे ही, घराती छतरपुर पुलिस बनी हुई थी. बकायदा पुलिस ने बारातियों का स्वागत किया और रात भर सारी व्यवस्थाएं कर रस्मे निभाते हुए शादी करवाई.

SP से मिली प्रेरणा
लटोरिया को : केवट परिवार पुलिस का धन्यवाद अदा कर रहा है. उसके लिए तो पुलिस साक्षात भगवान बन गयी. थाना प्रभारी लटोरिया का कहना है उन्हें छतरपुर एसपी सचिन शर्मा से इस काम की प्रेरणा मिली. सचिन शर्मा लगातार संकल्प अभियान के तहत बुजुर्गों की सेवा करते आ रहे हैं. उन्हें लगा कि पिता न होने के कारण एक बेटी की शादी नहीं हो पा रही है. इसलिए वो आगे आए और उनका साथ थाने के पुलिसकर्मियों ने भी दिया.

Tags: Bride and groom story, Chhatarpur news, Marriage, MP Police

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर