OMG: जानिए क्या हुआ जब एक शख्स खा गया चाकू, पेंचकस और ब्लेड...

छतरपुर में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. एक मरीज का ऑपरेशन करके उसके पेट से 33 चीजें निकाली गई.

Sunil Upadhyay | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 17, 2019, 9:45 AM IST
Sunil Upadhyay | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 17, 2019, 9:45 AM IST
छतरपुर में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. छतरपुर के रहने वाले योगेश को पेट में दर्द हुआ. योगेश के परिजन दर्द की शिकायत लेकर जब डॉक्टर के पास गया तो चेकअप और एक्सरे के बाद डॉक्टर भी हैरान रह गये. एक्सरे में योगेश के पेट में नुकीली चीजें देखाई दे रही थी. इसके बाद डॉक्टर पीएन खरे ने एक मरीज का ऑपरेशन करके उसके पेट से 33 चीजें निकाली. ये वस्तुएं सामान्य नहीं बल्कि धारदार और नुकीली वस्तुएं थी. जिसमें चाकू, पेंचकस, सूजे और ब्लेड जैसी खतरनाक चीजें भी शामिल थी. सभी लोग हैरान थे कि ये सारी वस्तुएं योगेश के पेट में पहुची कैसे.

अजीबोगरीब मामला, Weird case
एक्सरे में योगेश के पेट में दिखाई देती चाकू, पेंचकस, सूजे औऱ ब्लेड जैसी खतरनाक चीजें


घर वालों ने माना सनकी स्वभाव का है योगेश

योगेश की मां ने बताया कि वह सनकी किस्म का है और कुछ भी उठाकर खा लेता है. लेकिन मां ने कहा कि उन्होने कभी भी सोचा नहीं था कि उनका बेटा इतनी खतरनाक वस्तुएं भी खा सकता है. योगेश के पेट से प्लास्टिक का पेन, बोरे सिलने वाले सूजे,आरी ब्लेड, प्लास्टिक का और सामान भी मिला है. अब योगेश के परिजन डॉक्टर का धन्यवाद कर रहे है जिन्होंने ऑपरेशन कर योगेश की जान बचाई. साथ ही परिजनों का कहना है कि वो इस बात का भी ध्यान रखेगे कि अब योगेश इस तरह की कोई चीज ना खाए.

अजीबोगरीब मामला, Weird case
योगेश के पेट से निकले चाकू, पेंचकस, सूजे औऱ ब्लेड जैसी खतरनाक चीजें, डॉक्टरों का कहना है कि ऑपरेशन के बाद अब योगेश की हालत स्थिर है.


मेडिकल साइंस की ये अनूठी घटना

डॉक्टरों  का भी मानना है कि ये एक कठिन ऑपरेशन था. योगेश ने जो भी खाया था वो पेट में बहुत खराब स्तिथी में था. ऐसे में ये ऑपरेशन बहुत चुनोतीपूर्ण था. ये घटना मेडिकल साइंस की ये अनूठी घटना है जिसमें डॉक्टरों ने कठिन परिश्रम के बाद इस मरीज की जान बचाई है.
Loading...

ये भी पढ़ें- टीचर बच्चों से करा रहे थे सफाई, छात्रा को सांप ने काटा तो कराई झाड़ फूंक

ये भी पढ़ें- सतना में 25 सालों से बरगद के नीचे चल रहा है यह सरकारी स्कूल
First published: July 17, 2019, 9:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...