Home /News /madhya-pradesh /

एमपी सरकार का बयान, राज्य में एक साल के भीतर कुल 12 बाघों की मौत

एमपी सरकार का बयान, राज्य में एक साल के भीतर कुल 12 बाघों की मौत

पेंच और बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में जून, 2015 से अब तक कुल 12 बाघ की मृत्यु हुई है.

पेंच और बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में जून, 2015 से अब तक कुल 12 बाघ की मृत्यु हुई है.

पेंच और बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में जून, 2015 से अब तक कुल 12 बाघ की मृत्यु हुई है.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
    मध्य प्रदेश में बाघों की मौत के बीच मुख्य वन्य-प्राणी अभिरक्षक रवि श्रीवास्तव ने बताया है कि पेंच और बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में जून, 2015 से अब तक कुल 12 बाघ की मृत्यु हुई है.

    राज्य सरकार ने एक आधिकारिक बयान जारी कर बताया कि इनमें से कुछ बाघों की मृत्यु को लेकर अलग-अलग स्रोतों से फैली जानकारी एवं धारणाओं से जन-साधारण में भ्रामक स्थितियाँ निर्मित हुई हैं. वास्तव में इस अवधि में पेंच तथा बांधवगढ़ टाइगर में 5 बाघ की मृत्यु प्राकृतिक, मुख्यत: टेरिटोरियल लड़ाई, वृद्धावस्था एवं घायल होने से हुई है.

    7 अन्य बाघ की मृत्यु 5 प्रकरणों में हुई है, जिनमें सभी अपराधियों को गिरफ्तार कर न्यायिक प्रक्रिया जारी है. इन प्रकरणों में अभी तक 27 लोगों की गिरफ्तारी हुई है.

    शिकार से संबंधित 7 बाघ की मृत्यु के प्रकरणों में 3 बाघ की मृत्यु खेतों में नंगे बिजली के तार फैलाने के कारण हुई है. एक बाघ की मृत्यु पेंगोलिन शिकार से संबंधित अपराधियों द्वारा की गई.

    पेंच टाइगर रिजर्व में एक बाघिन एवं उसके दो शावक की मृत्यु पानी के स्रोत में इंडोसल्फान जहर मिलाने से हुई है. बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में टेरिटोरियल लड़ाई के कारण घायल अवस्था में पाये गये टी-13 (ब्ल्यू आई) की मृत्यु घाव ज्यादा गंभीर होने के कारण हुई है.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर