लाइव टीवी

'कॉर्न सिटी' में होगा 'कॉर्न फेस्टिवल', मुख्यमंत्री कमलनाथ भी होंगे शामिल

News18Hindi
Updated: December 13, 2019, 12:45 PM IST
'कॉर्न सिटी' में होगा 'कॉर्न फेस्टिवल', मुख्यमंत्री कमलनाथ भी होंगे शामिल
कॉर्न फेस्टिवल में किसानों को मक्के की फसल की पूरी जानकारी दी जाएगी.

कॉर्न फेस्टिवल (Corn Festival) 15 और 16 दिसंबर को होगा, इसमें बड़ी संख्या में कृषि वैज्ञानिक और एक्सपर्ट हिस्सा लेंगे. इस फेस्टिवल के मकसद और कार्यक्रमों के बारे में आप यहां जान सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 13, 2019, 12:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में एक बार फिर कॉर्न फेस्टिवल का आयोजन हो रहा है. ये फेस्टिवल 15 और 16 दिसंबर को होगा, जिसमें मुख्यमंत्री कमलनाथ भी हिस्सा लेंगे. इस फेस्टिवल का मकसद किसानों को मक्के की फसल के प्रति जागरूक करने और छिंदवाड़ा को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने की है. इस फेस्टिवल में देश-विदेश के प्रसिद्ध वैज्ञानिक और एग्रीकल्चर एक्सपर्ट भी हिस्सा लेंगे, जो बताएंगे कि मक्के की पैदावार को और बेहतर कैसे किया जा सकता है. इसके साथ ही यहां पहुंचे उद्योगपति इस बात पर चर्चा करेंगे कि कैसे किसानों को मक्के की फसल का ज्यादा से ज्यादा लाभ दिया जाए और उनके लिए खाद्य प्रसंस्करण यूनिट और ज्यादा से ज्यादा छोटे-बड़े घरेलू उद्योगों की व्यवस्था हो सके.

इसलिए खास है छिंदवाड़ा
मध्य प्रदेश का छिंदवाड़ा मक्का पैदा करने वाले राज्य में नंबर वन है. छिंदवाड़ा (Chhindwara) खुद 'कॉर्न सिटी' (Corn City) के नाम से मशहूर है. यहां पिछले कुछ सालों से गुणवत्तायुक्त मक्का का उत्पादन किया जा रहा है. मु्ख्यमंत्री कमलनाथ ने इस फेस्टिवल को पहले से भी बड़े रूप में आयोजित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं, ताकि वैज्ञानिक और एक्सपर्ट किसानों के साथ मक्के की फसल को लेकर सीधा संवाद कर सकें.

मक्के की खेती में तरक्की पर छिंदवाड़ा

छिंदवाड़ा में मक्के की खेती लगातार तरक्की के रास्ते पर है. वैज्ञानिक किसानों के लिए हर बार नई किस्मों की खोज करते हैं, ताकि पैदावार बढ़ाई जा सके. छिंदवाड़ा में मक्का अनुसंधान केंद्र भी है, जिसमें नई किस्मों की खोज का काम जारी रहता है. एक्सपर्ट मानते हैं कि इस तरह के फेस्टिवल के किसानों का सीधा फायदा मिलता है. किसान न सिर्फ अपनी फसल के उत्पादन और लागत पर बात कर पाते हैं, बल्कि उन्हें स्थानीय इंडस्ट्री होने से ज्यादा फायदा भी मिलता है. साथ ही युवा उद्यमी, स्टार्टअप्स, व्यापारी, खाद्य व्यंजन निर्माता, शोधकर्ताओं और खाद्य उद्योगों से जुड़ी कंपनियों को सीधा फायदा पहुंचता है.

इस तरह होंगे कार्यक्रम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए छिंदवाड़ा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 12:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर