मध्य प्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस ने अवैध खनन के खिलाफ चलाया पदयात्रा अभियान
Bhopal News in Hindi

मध्य प्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस ने अवैध खनन के खिलाफ चलाया पदयात्रा अभियान
लाहर के विधायक और पूर्व मंत्री गोविंद सिंह. (फाइल फोटो)

भिंड (Bhind) और दातिया (Datia) जिलों में इस अभियान के तहत विधायक गोविंद सिंह (Govind Singh) हर रोज 18 से 20 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर रहे हैं. अवैध खनन (illegal mining) के खिलाफ जनता का समर्थन प्राप्त करने के लिए यह अभियान चलाया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2020, 1:42 PM IST
  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में उपचुनावों (by-election) से पहले कांग्रेस (Congress) पार्टी ने अवैध खनन (Illegal Mining) और जन संरक्षण को लेकर एक पदयात्रा अभियान चलाया है. ग्वालियर-चंबल इलाके के लाहर से सात बार के विधायक और पूर्व मंत्री 69 वर्षीय गोविंद सिंह (Govind Singh) इसे लीड कर रहे हैं. पांच सितंबर को उन्होंने नदी बचाओ यात्रा शुरू की. भिंड और दातिया जिलों में इस अभियान के तहत विधायक गोविंद सिंह हर रोज 18 से 20 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर रहे हैं. अवैध खनन के खिलाफ जनता का समर्थन प्राप्त करने के लिए यह अभियान चलाया जा रहा है.

वॉटरमैन राजेन्द्र सिंह, राज्यसभा सांसद तिलक तन्खा, कांग्रेस के वर्किंग प्रेसिडेंट रामनिवास रावत, कम्यूटर बाबा और अन्य लोगों ने भी इस अभियान में हिस्सा लिया है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह और वरिष्ठ गांधीवादी एक्टिविस्ट राजगोपाल पीवी भी शुक्रवार को इस अभियान का हिस्सा बनेंगे. दातिया के संकुआ क्षेत्र में यह यात्रा समाप्त होगी. सूत्रों के अनुसार कांग्रेस की रणनीति इस अभियान को पूरे ग्वालियर-चम्बल में लेकर जाने की थी लेकिन उपचुनाव की घोषणा कभी भी होने का अंदेशा होने के चलते ऐसा नहीं किया गया.

इसे भी पढ़ें :- उपचुनाव का रण : BJP का सांसद-MLA समेत मंत्रियों के साथ मंथन, शिवराज बोले- लाना है 100% रिजल्ट



कांग्रेस ने गोविंद सिंह को इसे भिंड और दातिया तक ही सीमित रखने का निर्देश दिया. 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में 16 सीटें ग्वालियर-चम्बल इलाके में हैं, जहाँं अवैध खनन को मुद्दा बनाया गया है. गोविंद सिंह ने बीजेपी के सामने रेत खनन का मुद्दा कई बार उठाया है और यह भी खुलकर कहा है कि वह खुद कमलनाथ कैबिनेट का हिस्सा होने के समय इसका समाधान करने में फेल हो गए थे.
इसे भी पढ़ें : MP By Election: कांग्रेस ने उपचुनाव के लिए तय किए 15 प्रत्‍याशी, यहां देखें पूरी लिस्‍ट

नदी के जलस्तर में 70 फीसदी क आई कमी
ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्र त्रिपाठी ने न्यूज 18 को बताया कि उन्होंने एक संगठन की मदद से सर्वे कराया था, जिसमें सामने आया कि चंबल नदी के जलस्तर में लगभग 70 फीसदी की कमी आई है. रेत खनन नदी में जल धारण करने की क्षमता को नष्ट कर रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि मानसून में रेत खनन पर प्रतिबन्ध के बाद भी रेत माफिया वाहनों में भरकर इसे ले जाते हुए दिखते हैं. भिंड और दातिया जिले के अलावा ग्वालियर-चम्बल का पूरा क्षेत्र अवैध खनन का अड्डा बना हुआ है और यहां खनन माफिया आए दिन पुलिस, वनकर्मियों और अन्य सरकारी अधिकारीयों से झगड़े में उलझते रहते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज