अपना शहर चुनें

States

COVID-19 Update: मध्य प्रदेश में 1,357 नए केस, 24 घंटे में 10 लोगों की मौत

कोरोना संक्रमण की वजह से एमपी में पिछले 24 घंटे में 10 लोगों की मौत हो गी है.
कोरोना संक्रमण की वजह से एमपी में पिछले 24 घंटे में 10 लोगों की मौत हो गी है.

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों की मानें तो मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना (COVID-19) के 1,357 नए मामले सामने आए हैं. संक्रमण की वजह से 10 लोगों की जान भी चली गई है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में कोरोना (COVID-19) के बढ़ते आंकड़े परेशानी का सबब बनते जा रहे हैं.  ताजा आंकड़ों के मुताबिक सूबे में एक हजार से ज्यादा कोरोना के ममले सामने आए हैं. शिवराज सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों की मानें तो मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1,357 नए मामले सामने आए हैं. संक्रमण की वजह से 10 लोगों की जान भी चली गई है. इन सबके बीच राहत देने वाली बात ये है कि 1,683 मरीजों ने कोरोना को मात देने में सफलता हासिल कर ली है.

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, नए मामले सामने आने के बाद अब मध्य प्रदेश में कोरोना के कुल मामले 2,07,485 हो गए हैं. अब तक 1,89,780 कोरोना संक्रमण से रिकवर हो गए हैं. तो वहीं 3,270 लोगों की मौत अब तक हो चुकी है. अब मध्य प्रदेश में एक्टिव की संख्या 14,435 हो गई है.

ये भी पढ़ें:हिमाचल विधानसभा शीतकालीन सत्र रद्द: मुकेश अग्निहोत्री बोले- सवालों से बच रही जयराम सरका



 कोरोना वैक्सीन के ट्रायल
इधर. राजधानी भोपाल में चल रहे कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के दूसरे दिन 80 साल के रिटायर्ड अफसर से लेकर युवाओं तक ने समाज के लिए अपनी सेवा दी. मंत्री विश्वास सारंग ने भी वैक्सीन ट्रायल की व्यवस्था का जायजा लिया. सारंग ने कहा प्रदेश की जनता को कोरोना वैक्सीन फ्री में दी जाएगी. पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में कोरोना वैक्सीन का ट्रॉयल चल रहा है. पीपुल्स यूनिवर्सिटी के वी सी राजेश कपूर ने कहा को वैक्सीन के ट्रायल के दूसरे दिन बुजुर्ग से लेकर युवा और हर वर्ग के लोगों ने उत्साह से खुद पर ट्रायल के लिए पेशकश की. हमारी आम जनता से अपील है कि वह ट्रायल के लिए स्वेच्छा से यहां पर आए. वैक्सीन का कोई साइड इफेक्ट नहीं है.इसलिए डरने की कोई बात नहीं है. कपूर ने कहा 2 महीने का टारगेट रखा गया है. इन 2 महीने में ट्रायल पूरा करना है. ट्रायल की मॉनिटरिंग की व्यवस्था की गई है. वॉलेंटियर के फीडबैक से लेकर उनकी मॉनिटरिंग और उनके स्वास्थ्य का पूरा ख्याल रखा जा रहा है.

एयरफोर्स से लेकर भेल के रिटायर्ड अफसरों तक...
80 साल के वसंत कुमार गर्ग BHEL से रिटायर्ड इंजीनियर हैं.उन्होंने अपने ऊपर को-वैक्सीन का ट्रायल करवाया. उन्होंने कहा मुझे लगा कि मेरा हिस्सा भी समाज सेवा में जुड़ सकता है. इसलिए आया. मानवता के लिए जो भी करना चाहिए वह सब को करना चाहिए. मेरी पारिवारिक जिम्मेदारी पूरी हो गई है, इसलिए मुझे किसी चीज का डर नहीं है. वहीं 64 साल के उदय निवालकर एयरफोर्स के रिटायर्ड अधिकारी हैं. उन्होंने कहा सामाजिक सेवा करना मेरी हॉबी है. अब बोनस की जिंदगी है.मुझे कुछ होता है और मेरे कुछ करने से किसी को बेनिफिट होता है तो यह मेरे लिए सबसे अच्छा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज